बाढ़ पीड़ितों के लिए आलू खरीद में 50 लाख के घोटाले की आशंका

August 26, 2017 3:56 pm0 commentsViews: 227

 

––– सात रुपये प्रति किलो बिकने वाला आलू 14 रुपये प्रति किलो की दर से खरीदा गया, कुल खरीद 1करोड़  19 लाख रुपये की

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। बाढ़ आने पर सरकारी स्तर पर पीड़ितों की मदद  में अक्सर घपले घोटाले की खबरें आती रही हैं। इस बार पीड़ितों को वितरित किया जाने वाला आलू 14 रुपये प्रति किलो खरीदा जा रहा है। जबकि यही आलू होलसेल मार्केट में सात रुपये किलो से ज्यादा नहीं है। प्रशासन जिले के 85 हजार बाढ़ पीड़ित परिवारों को खद्यान्न के साथ दस दस किलो आलू भी दे रहा है। इस प्रकार जिले में करीब सवा करोड़ रूपये के आलू की खरीद होगी। यह खरीद रेट की वजह से चर्चा का विषय बनी हुई है। इसमें कम से कम 50 लाख के घोटाले की आशंका व्यक्त की जा रही है।

बताया जाता है कि  85 हजार बाढ़ पीड़ितों को दस किलो आलू देने के हिसाब से 8 लाख 50 हजार आलू की सप्लाई देनी है। जिसका भुगतान 1 करोड 19  होगा। थोक मंडी में आलू का दाम 7 रुपया है तो जाहिर है कि आढ़ती को लगभग 50 लाख रुपया अधिक मिलेगा। लेकिन जानकार बताते हैं कि वह रकम पिछले दरवाजे से प्रशासन के भ्रष्टाचारियों को मिल जायेगी। इस घोटाले को करने के लिए पूरा प्लान किया गया है। पूर्व विधायक विजय पासवान कहते हैं कि इस मामले की पूरी जांच होनी चाहिए।

इस सिलसिले में जब मीडिया वालों ने डीएम कुणाल सिल्कू से पूछा तो उन्होंने जवाब में कहा कि यह एग्रीमेंट दो माह पहले किया गया था। तब आलू का रेट महंगा था। जब कि जानकार बताते हैं कि तब भी थोक बाजार में आलू का दाम सात रुपया किलो से अधिक नहीं था। सबसे मजेदार बात है कि एग्रीमेंट एक फर्म से किया गया था, जब कि सप्लाई चार फर्में कर ही हैं। वैसे पूर्व में नाव मंगाने के सवाल में डीएम का कहना था कि पहले से नाव बुक करने में सरकारी खर्च बढ़ जाता, मगर आलू खरीद में इस लाजिक को दरकिनार कर दिया गया।

 

(21)

Leave a Reply