प्रेम की जंग में मारा गया था अवधराम, प्रेमिका और दूसरा प्रेमी गिरफ्तार

September 2, 2018 4:24 pm0 commentsViews: 787

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। ढेबरूआ थाना क्षे़त्र में नौ माह पहले मारे गये अवधराम यादव की हत्या का खुलासा आखिरकार पुलिस ने कर लिया है। अवधराम की जान उसकी प्रेमिका व प्रेमिका के एक अन्य प्रेमी ने मिल कर ली थी। पुलिस ने प्रेमिका मंजू देवी व दूसरे प्रेमी जैसम यादव का गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पुलिस के मुताबिक ढेबरूआ थाना क्षेत्र के कठेला के ग्राम बरमपुर निवासी अवधराम का पडोस के गांव तिरछहवा की 35 वर्षीय मंजू देवी से अवैध सम्बंध था। अवधराम मुम्बई रह कर कारोबार करता था और सारी कमाई मंजू को देता था। मजू का पति भी मुम्बई में ही रहता था। इसी बीच  मंजू का संबंध पड़ोस के गांव मानपुर निवासी जैसम यादव से हो गया।

इस बात का पता अवधराम को पता चला तो गांव लौट  कर उसने मंजू को इससे रोका। वह उसे मुम्बई भाग चलने के लिए कहने लगा, लेकिन वह नही मानी। इधर जैसम ने मंजू से अवैध सम्बंध बनाये रखने के लिए अपनी लड़की का रिश्ता उसके बेटे से तय कर दिया। इससे जैसम का मंजू से सबंध और मजबूत हो गया।

बताया जाता है कि इसी बीच मंजू अवधराम के बुलाने पर मुम्बई गई। वह अवधराम के घर दो दिन रह कर फिर अपने पति से मिलने नासिक चली गई और 11 नवम्बर 2017 वह अपने पति के साथ मुम्बई से गांव लौटी। उसी ट्रेन से अवधराम भी गांव लौटा। शायद मंजू ने उसे साथ चलनें के लिए कहा था।

इसकें बाद मंजू और जैसम ने मिलकर अवधराम को हटाने की योजना बनया। योजना के तहत मंजू ने 15 नवम्बर को अवधराम को सायं ५ बजे निकल के पेटोल पम्प के पास बुलाया। मंजू ने अधवधराम का नशीली दवाया मिला कर बीयर पिलाया  जिससे वह काफी नशे में हो गया।

इसके बाद मौके पर मंजू का दूसरा प्रेमी जैसम भी पहूंच गया। दोनो उसे आटो से लेकर औंदही कलां गांव के अमरूद की बाग में पहुंचे और उसकी लाश को अधजला छोड कर भाग निकले। इसकी रिपोर्ट अज्ञात के खिलाफ मृतक  अबधराम के भाई बलराम ने लिखाई थी। जिसकी छानबीन जारी थी। जांच के नौ महीने के बद अंत में मामला प्रेम त्रिकोण का निकला और पुलिस ने मजु और जैसम कों गिरफ्तार कर लिया। आज अपर पुलिस अधीक्षक की प्रेस कान्फ्रेंस में दोनों ने अपने जर्म को तीडिया के सामने भी स्वीकार किया। केस के खुलासे में एसओ ढेबरूआ   राजेन्द्र बहादुर सिंह, एस आई राकेश कुमार की भमिका सराहनीय रही।

 

 

(731)

Leave a Reply