excluve-बलरापुर कांडः हत्या के समय विधायक बंधु की गाड़ी में थी कालगर्ल, पुलिस तफ्तीश में जुटी

March 7, 2016 6:01 pm0 commentsViews: 1345

नजीर मलिक

सपा विधायक जगराम पासवान, गिरफ्तारी की मांग को लेकर रोड जाम करने जाते लोग और मृतक परिवार की रोती बिलखती महिलाएं

सपा विधायक जगराम पासवान, गिरफ्तारी की मांग को लेकर रोड जाम करने जाते लोग और मृतक परिवार की रोती बिलखती महिलाएं

सिद्धार्थनगर। बलरामपुर सदर सीट के सपा विधायक जगराम पासवान के भाइयों द्धारा किये गये कथित हत्याकांड के दौरान उनकी कार में एक कालगर्ल भी थी। इस जानकारी के बाद पुलिस ने इसे भी अपनी तफ्तीश में शामिल कर लिया है। यह कालगर्ल पुलिस की नजर में एक अहम गवाह साबित हो सकती है। अतीत में भी यह परिवार महिला संबंधी अपराधों के आरोप में काफी चर्चित रहा है।

कपिलवस्तु पोस्ट को मिली जानकारी के मुताबिक सडक पर ओवरटेक में हुई टक्कर को लेकर बारातियों से विधायक खेमे के झगडे के दौरान विधायक के भाइयों की कार में एक कालगर्ल भी थी। सूत्र बताते हैं कि पहली फायरिंग के दौरान ही उसने विधायक के भाइयों को रोकने की कोशिश की थी।

सूत्रों के मुताबिक उस समय विधायक के तीनों भाई नशे में चूर थे। इस प्रतिरोध पर उनमें से विधायक के एक भाई ने उस कथित कालगर्ल को थप्पड़ मारे और उसे अपने एक कारिंदे की बाइक पर उसे उसके घर रवाना कर दिया। हालांकि एसओ धानेपुर देवेन्द्र पांडेय ने अभी ऐसी किसी जानकारी से इंकार किया है, लेकिन सूत्र बताते हैं कि पुलिस इस दिशा में काम कर रही है। वह मामले में अहम गवाह साबित हो सकती है।

पहले भी लगते रहे हैं सेक्स स्कैंडल के आरोप

र तलब है कि विधायक जगराम पासवान और उनके भाइयों पर पहले भी सेक्स स्कैंडल के आरोप लग चुके हैं। इससे पूर्व बलरामपुर जिले में एक पिछड़ी जाति की महिला से बलात्कार के मामले में खुद विधायक जगराम का नाम उछला था। बड़ी मुश्किल से उनकी जान बची थी।

इसके अलावा एक महिला के कत्ल के मामले में इनके भाई साधू पासवान भी जनता के कठघरे में आ चुके हैं। वहां भी इस परिवार की काफी छीछालेदर हुई थी। इस तरह के कई अन्य आरोप भी विधायक और उनके परिजनों पर चस्पा होते रहे हैं।

40 घंटे बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं

धानेपुर थाना क्षेत्र के शुक्लागंज मार्ग पर रविवार की रात कुछ बारातियों व विधायक परिजनोंकेबीच झड़प के बाद आरोप के मुताबिक विधायक के तीन भाइयों ने जयराम यादव नामक बाराती की गोली मार कर हत्या कर दी थी। घटना में विधायक के तीन भाई अन्नू, पप्पू, व अंगद पासवान घटना में नामजद किये गये थे, लेकिन 40 घंटे बीत जाने के बाद भी अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

थानाध्यक्ष बोले

इस मामले में थानाध्यक्ष धानेपुर देवेन्द्र पांडेय ने बताया कि विधायक के भाइयों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की आठ टीमें गठित हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि छापे डाले डाले जा रहें हैं। मुखबिर लगे हैं। उम्मीद है कि अभियुक्त जल्द ही शिकंजे में होंगे। उन्होंने कहा कि घटना के समय अगर महिला थी, तो वह पुलिस की निगाहसे बच न सकेगी।

 

(14)

Leave a Reply