जगदम्बिका पाल से टिकट छीनने को आतुर कई चेहरे मैदान में

August 12, 2018 3:14 pm0 commentsViews: 3784

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। लोकसभा चुनावों के दिन करीब आते जाने के साथ भारतीय जनता पार्टी में भी महत्वकांक्षी लोगों की भाग दौड़ तेज हो गई है। सिद्धार्थनगर जिले की इकलौती डुमरियागंज सीट भी इससे अछूती नहीं है। मौजूदा सांसद जगदम्बिका पाल के मुकाबले यहां भी लगभग आधा दर्जन लोगों ने इस सीट पर नजर गड़ा रखी है। वह क्षे़त्र के अलावा सत्ताधारी दल के बड़े लोगों को पटाने में जुट गये हैं।

कौन कौन हैं पाल के मुकाबले दावेदार

डुमरियागंज सीट से जगदम्बिका पाले के मुकाबले कम से कम आधा दर्जन लोग भाजपा से अपनी दावेदारी जता रहे हैं। इनमें भाजपा नेता और भाजपा के क्षेत्रीय मंत्री गोविदं माधव, नगरपालिका सिद्धार्थनगर के चेयरमैन और प्रसिद्ध चिकित्सक चन्द्रेश उपाध्याय का नाम सर्वजनिक है तथा दो विधायकों का नाम अंदरखाने में लिया जा रहा है। एक विधायक के समर्थर्कों का यहां तक कहना है कि उन्हें ऊर से इशारा भी मिल गया है। ड. चन्द्रेश उपाध्याय तो बाकायदा स्थान स्थान पर छोटे छोटे कार्यक्रम कर लोगों में बैग, अवाण्ं आदि वितरित कर अपनी दावेदारी का एलान भी कर रहे हैं।

अपना दल एस भी टिकट की दौड़ में

भाजपा नेताओं के अलावा सत्ता की सहयोगी पार्टी अपना दल एस के युवा विंग के अध्यक्ष हेमंत चौधरी भी यहां से टिकट के गंभीरदावेदार बताये जाते हैं। यह अभी हाल में जिले में कम से कम दौसौ चौपालों का आयोजन कर चुके हैं। जिले में अपना दल को सांगठनिक रूप से मजबूत करने का श्रेय उन्हीं को जाता है। बताया जाता है कि वे चुनाव की पूरी तैयारी में लगे हुये हैं।
आखिर किस बेस पर कटेगा पाल का टिकट

सवाल यह है कि जगदम्बिका पाल जैसे बड़े कद काठी के नेता का टिकट किस बेस पर कटेगा। क्योंकि उनका टिकट कटने पर ही दूसरे को मिलेगा। इस बारे में कोई दावेदार साफ नहीं बताता। दावेदार गोविंद माधव कहते हैं कि वह भाजपा के पदाधिकारी है। सार्वजतिक रूप से कुछ कह नहीं सकते। उन्हें आशा है कि टिकट बदला जायेगा, और वे चुनाव लड़ सकते हैं।  दूसरी तरफ डा चन्द्रेश्वर के समर्थक कहते हैं उन्हें ऊपर से आश्वासन मिली है, लेकिन किसका इस सवाल का जवाब वे काट जाते हैं

हेमंत चौधरी ने दी अपनी दलील

दूसरी तरफ जनता दल एस के दावेदार हेमंत चौधरी कुछ ज्यादा ही साफ बात करते हैं। दावेदारी के आधार पर वे साफ कहते हैं कि लोकसभा चुनाव में उनके दल को समझौते में पांच सीटें मिलने के आसार हैं। समझौते में उनकी पार्टी डुमरियागंज सीट भी तांग रही है, जो कुर्मी समाज की बाहुल्यता के कारण उन्हें मिलेगी भी। मतलब साफ है कि सीट मिलेगी और वे लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी पार्टी की अध्यक्ष माननीया अनुप्रिया पटेल जी पर पूरी विश्वास है।
फिॅलहाल अभी चुनाव में कम से कम 6 महीने की देरी है। दावेदारों के सामने जगदम्बिका पाल जैसा पहड़ सरीखा राजनैतिक व्यक्तित्व खडा है, उसे लांघ पाना बहुत बड़ी चुनौती है। लेकिन यह भी सच है कि राजनीति में अक्सर पांसे पलटते देखे गये हैं। फिलहाल जगदम्बिका पाल इन सबसे बेफिक्र क्षेत्र में घूम रहे हैं। उनकी बेफिक्री बताती है कि वह इस मुद्दे को लेकर जरा भी चिंतित नहीं हैं।

 

(3600)

Leave a Reply