भाजपा सरकार ऐसा कोई काम नहीं कर पाई जिससे जनता का हित हो सके- मो. मुकीम

February 3, 2019 3:40 pm0 commentsViews: 420
मेराज़ मुस्तफा
इटवा, सिद्धार्थनगर। भाजपा शासित केन्द्र सरकार के पौने पांच साल व प्रदेश सरकार के बाईस माह के कार्यकाल में कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया गया जो किसानों, गरीबों व नौजवानों के हित में हो।  आने वाले दिनों में मोदी सरकार अपने कुकर्म का फल हार के रूप में चखेगी।
उपरोक्त बातें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व डुमरियागंज लोकसभा क्षेत्र के पूर्व सासंद हाजी मो. मुकीम ने इटवा विधानसभा क्षेत्र के रामनगर में आयोजित स्वागत समारोह के दौरान कहीं।  उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज में अपराध, भ्रष्टाचार, और महंगाई पर कोई अंकुश है। सरकार बेरोगारों को पकौड़ा बेचने की सलाह देकर युवा वर्ग को अपमानित किया है।
समारोह में पूर्व सांसद मुकीम ने कहा कि यह सरकार काम के बजाए दिंदू मुसलमानों की धार्मिक भावनाएं भड़का कर अपना उल्लू साीधा करना चाहती है। लेकिन नौकरियों का अवसर पैदा कर युवाओं को सकारात्मक दिशा देने का कोई प्रयास नहीं कर रही। किसानों को उपज के मूल्य का दोगुना दाम देने की घोषणा कर भी उन्हें उचित मूल्य नहीं दे रही है।
हाजी मो. मुकीम ने कहा जब से भाजपा के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी है देश पच्चीस वर्ष पीछे चला गया एवं बड़े पूंजीपतियों के हाथ की कठपुतली बनकर लाभ देने का कार्य कर रही जबकि किसान भूख से और नौजवान बेरोजगारी के चलते मर रहे परन्तु केन्द्र व प्रदेश सरकार कोई इससे कोई फर्क नही पड़ा।
इसी क्रम में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व डुमरियागंज विधानसभा क्षेत्र के पूर्व प्रत्याशी सच्चिदानंद पाण्डेय ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जबसे भाजपा सरकार बनी है हर तबका परेशान है।इससे पूर्व रामनगर वासियों ने पूर्व सांसद मो. मुकीम का फूल मालाओं से स्वागत करते हुए गगनभेदी नारे लगाकर माहौल को कांग्रेसमय करते हुए आगामी चुनाव में उन्हें जीत दिलाने का प्रण किया।
इस दौरान पूर्व सांसद हाजी मो.मुकीम व सच्चिदानंद पाण्डेय के अतिरिक्त वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व मीडिया प्रभारी कमाल अहमद, हाजी अब्दुल मुबीन, हाजी रईश, अहमद मनिहार, मुस्ताक़ अहमद, हाजी याकूब, समीउद्दीन खान, रमज़ान मनिहार, इनामुल्लाह मनिहार, कमला प्रसाद यादव, राम महेश यादव, धर्मराज यादव, गौकरन यादव, उमेर अहमद, मो. रज़ा मनिहार सहित भारी संख्या में ग्रामीणों की उपस्थिति रही।

(388)

Leave a Reply