गौरा में भय का महौल, बीडीसी मेंबर का एलान–उत्पीड़न न रुका तो करेंगे आत्मदाह

March 7, 2018 12:52 pm0 commentsViews: 939

नजीर मलिक

गिरफतार किये गये सीताराम गुप्ता और बृजेश

सिद्धार्थनगर। चिल्हिया थाना क्षेत्र के गौरा बाजार गांव से दो व्यक्तिRयों को उनके घरों से अकारण उठा उनकी पिटार्द के बाद धारा 107 में चालान करने के बाद कस्बे मे खौफ और बढ़ गया है। आये दिन की पुलिसया धौंस व तांडव के बाद  क्षेत्र के बीडीसी सदस्य रवीन्द्र मिश्र से एलान किया है कि अगर बड़े अफसरों ने उत्पीड़न बंद नही कराया तो वे आत्मदाह करने पर मजबूर होंगे।‘

बीडीसी मेंम्बर रवीन्द्र कुमार मिश्र ने मीडिया को बताया कि गौरा बाजार के मनीष हत्यांकांड की सीबीआई से जांच की मांग को लेकर अनशन के बाद उनके गांव में क्षेत्रीय विधायक चौक्धरी अमर सिंह आये तो कुछ लोगों ने उन पर स्याही और घूल फेंका। इस घटना के बाद गांव में पुलिसया आतंक का दौर शुरू हो गया। पुलिस आये दिन रात में किसी घर पर दबिश देती है, लोगों को अपमानित करती है

उन्होंने बताया कि इसकी शिकायत पुलिस कप्तान से करने  सोमवार की रात पुलिस ने दबिश देकर 65 साल के सीताराम और १४ साल के बृजेश का उठा लिया तथा उन्हें मारपीट कर रात भर थाने में रखा औ कल धारा 107/16 के तहत चालान कर दिया।

सुरेन्द्र मिश्र का कहना है क्षेत्रीय विधायक के दबाव में पुलिस की गांव वालों पर ज्यादती बढ़ती जा रही है। प्रशासन उनकी सुनवाई नही कर रहा है। ऐसे में अगर एक सप्ताह के अंदर उनकी मांगों पर ध्यान नही दिया गया तथा ग्रामीणों का उत्पीड़न नहीं रुका तो उन्हें आत्मदाह पर विवश होना पड़ेगा।

बताते चलें कि गौरा के बीएससी छात्र मनीष शुक्ला गत २१ जनवरी को अपने हास्टल से गायब पाया गया था। 29 जनवरी को उसकी लाश मिली थी। इस मामले में क्षेत्रीय विधायक पर मामला दबवाने का आरोप है इसी के तहत होली के अवसर पर गौरा में विधायक पर स्याही और धूल फेंकी गई थी, जिसका मुकदमा तो नही लिखाया गया मगर पुलिस आये दिन गांव में धुस कर लोगों को मारपीट रही है।

 

(861)

Leave a Reply