exclusive- बाबा राम रहीम की कथित बेटी हनीप्रीत हो सकती है नेपाल में, खुफिया एजेंसियां खंगाल रही शहर व कस्बे

September 9, 2017 5:33 pm0 commentsViews: 265

––– सिद्धार्थनगर बार्डर से पहले भी पकडे़ जा चुके हें आतंकी और समाज विरोध तत्व, कई का हो चुका है इनकाउंटर

–––  महाराजगंज से पकड़ा गया था मुत्गई बम ब्लास्ट का अभियुक्त याकूब मेनन, बबलू श्रीवास्तव भी रहता था यहीं

नजीर मलिक

हनीप्रीत अपने कथित पिता बाबा राम रहीम के साथ

“खुफिया एजेंसी को गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत नेपाल में छुपे होने कर भी आशंका है। इसलिए भरत नेपाल सीमा पर हाई अलर्ट कर दिया गया है। यूपी के लखीमपुर जिले से लगायत महाराजगंज और सिद्धार्थनगर तक पूरे नेपाल बार्डर पर खुफिया एजेंसियों लगी हुई है। जो उसके नेपाल में होने के सुराग लगाने की जानतोड़ कोशिश में लगी हैं। इसके लिए वो सीमा से सटे भारत व नेपाल के  हर शहर व कस्बे को खंगाल रही हैं। हनीप्रीत 25 अगस्त को रोहतक से गायब हुई थी, जो अभी तक नहीं मिली है। हनी बाबा राम रहीम की राजदान मानी जा रही है। गुरमीत समर्थकों को आशंका है कि हनीप्रीत जिस दिन पुलिस के हाथ लग गई सारे राज बेपर्दा हो जाएंगे।“ 

खबर है कि हनीप्रीत की तलाश में नेपाल से सटे यूपी के सभी 11 जिलों की पुलिस को  हनीप्रीत के फोटो ग्राफ भेजे गये हैं। जिलों  के पुलिस कप्तानों ने हनीप्रीत की तस्वीर को हर थानों पर भेजा है। इसके अलावा सीमा से से सटे थानों को विशेष चौकसी का आदेश भी दिया है। इसके अलावा बार्डर पर तैनात एसएसबी समेत अन्य खुफिया ऐजेंसियां भी काफी चाक चौबंद नजर आ रही है। लाग इस बात को मान रहे हैं कि खुली सीमा के कारण हनीप्रीत का नेपाल भागना अधिक आसान है।

खबर है कि पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने हनीप्रीत के ऑस्ट्रेलिया भागने की संभावनाओं को खारिज किया, लेकिन उन्होंने अपनी टीमें मुंबई और भारत-नेपाल बार्डर के आसपास ही तैनात करने के निर्देश दिए हैं। नेपाल में गुरमीत राम रहीम का पूरा रसूख है। हनीप्रीत को लेकर इंटरनेशनल अलर्ट भी जारी किया जा चुका और सभी एयरपोर्ट पर सूचना भिजवा दी गई है। इसके बाद खुफिया एजेंसियां उसकी तलाश में नेपाल में पूरी ताकत लगा रही हैं।

इस बार्डर से याकूब मेमन समेत पकडे गये  है तमाम आतंकी

बता दें कि नेपाल भागने वालों या नेपाल से आने वाले अपराधी व आतंकी तत्वों की नजर में सिद्धार्थनगर व पडोस का महाराजगंज  जिला सबसे उचित लगता है। यहां की भौगोलिक जटिलता उनकी बहुत मदद करती है। सिख आतंकवाद के जमाने में यहां से भाग सिंह, अजमेर सिंह जैसे खूंखार आतंकी पकड़े जा चुके हैं तो हार्डकोर आतंकी राजू खन्ना और याकूब मेनन भी यहीं से दबोचे गये हैं। राजू श्रीवास्तव सिद्धार्थनगर से सटे नेपाल के कुष्णनगर कस्बे में सालों रहा। इसके अलावा सलमाल ऊर्फ छोटू भी यहीं से दबोचा गया । इसके अलावा राशिद पहलवान, परवेज टांडा, जावेद खान, आदि का एनकाउंटर का गवाह यही क्षेत्र रहा।

खुफिया ऐजेंसियों का मानना है कि बाबा राम रहीम की कथित बेटा नेपाल में छुपी हो सकती हैं। बाबा राम रहीम के नेपाल में हजारों भक्त हैं। ऐसे में खुफिया एजेंसियों की आशंका उचित ही हैं। फिलहाल तो हालात यह हैं कि सीमा के इर्दगिर्द किसी स्मार्ट महिला को देखते ही सुरक्षा एजेंसियां उसमें हनीप्रत कर अक्स देखने लगती हैं। सुरक्षा एजेंसियों  के मुखबिर  सिद्धार्थनगर से सटे नेपाल के कृष्णानगर से लेकर भैरहवा, बुटवल, पालपा, पोखरा और काठमांडू तक अपना जाल बिछा दिया है। देखना है कि हनीप्रीत मिलती है या नहीं?

 

(1)

Leave a Reply