डा. कमालुद्दीन मलिक कृषि क्षे़त्र के “उत्कृष्ट वैज्ञानिक” अवार्ड से नवाजे गयेl

November 18, 2018 1:37 pm0 commentsViews: 282

 नजीर मलिक

“उत्कुष्ट वैज्ञानिक” एवार्ड प्राप्त करते डा. कमालुद्दीन मलिक

सिद्धार्थनगर। बांदा कृषि एवं प्राद्यौगिकी विश्वविद्यालय के अनुवांशिकी विभाग के सह प्रध्यापक डा. कमालुद्दीन मलिक का “उत्कृष्ट वैज्ञानिक” के अवार्ड से नवाजा गया है। डा. कमालुद्दीन जिले के डुमरियागंज तहसील के कादिराबाद गांव के निवासी हैं। अंतर्राष्ट्रीय स्तर का यह अवार्ड उन्हें एग्रीकल्चर टेक्नाजी डेवलपमेंट सोसयटी, स्वामी विवेकानंद स्मृति यूनिवसिर्टी मेरठ एंव काहिरा युनिवर्सिटी मिस्र के कृष्रि संकाय के एक संयुक्त कार्यक्रम में दिया गया है।

गत दिवस स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी मेरठ के सरदार पटेल सभागर सभागार में आयोजित कार्यक्रम में देश और विदेश के कृषि वैज्ञानिकों ने भाग लिया, और अपने अपने शोध कार्यों, शोध प़त्रों के माध्यम प्रस्तुत किया। जिसकी समीक्षा के बाद निर्णायक मंडल ने कृष्रि शिक्षा एवं शोध में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुए उन्हें उत्कृष्ट वैज्ञानिेक का अवार्ड देने की घोषणा की।इस खबर के बाद उनके गांव कादिराबाद में बहुत हर्ष है।

डा.कमालुद्दीन अब तक  के अब तक लगभग 60 शोधपत्र, आर्टिकिल एवं बुक चैप्टर देश विदेश के प्रतिष्ठित जर्नल एवं पतिकाओं में स्थान पा चुके हैं। इनकी संपादित पुस्तक “प्लांट एंव बायोटेक्नालाजी- प्रिसपुल्स एंड अप्लीकेशन्स” विश्व के प्रसिद्ध प्रकाशन स्प्रिंजर पब्लिकेशन से प्रकाशित हो चुकी है।

प्रारम्भिक पढाई कादिराबाद गांव से करने के बाद डा. मलिक ने बीएचयू से पीएचडी की बाद में उन्हें भारत सरकार के जैव प्राद्यौगिकी विभाग से पोस्ट डाक्टोरल फोलोशिप मिली। हाल में वे कश्मीर यूनीवर्सिटी में थे, अभी वे कृषि एंव प्राद्यैगिकी यूनीवर्सिटी में कार्यरत हैं।

(260)

Leave a Reply