नेपाली सांसद रजत शाह बोले- नेपाल के मदरसों ने भारत की जंगे आजादी में बहुत योगदान दिया है

March 29, 2018 5:49 pm0 commentsViews: 352

सगीर ए खाकसार

बढ़नी ,सिद्धार्थनगर ।निःशुल्क भोजन, शिक्षा उपलब्ध करवाना एक महान कार्य है। शिक्षा के ज़रिए ही समाज और देश में बदलाव आएगा। नेपाल के मदरसों ने भी  भारत की जंगे आजादी की लड़ाई से लेकर विकास के क्षेत्र में बहुत योगदान दिया है। मदरसा इस्लामिया नईमिया की प्रबन्ध समिति और अध्यापकों को मैं बधाई देता हूँ। मदरसे के उत्थान के लिए हर संभव योगदान दिया जाएगा।

यह विचार पड़ोसी राष्ट्र नेपाल के नगरपालिका कृष्णा नगर के मेयर रजत प्रताप शाह ने व्यक्त किया। श्री शाह मदरसे में  चार नवनिर्मत  कमरों का उद्घाटन करने के बाद बतौर मुख्य अतिथि मदरसे के विद्यार्थियों और उपस्थित जनों को संबोधित कर रहे थे। श्री शाह ने नगरपालिका निधि से दो अन्य कमरों के निर्माण की भी घोषणा की। श्री शाह ने कहा कि मैं जाति धर्म और मज़हब से ऊपर उठकर समाज के सर्वांगीण विकास में विश्वास रखता हूँ।

विशिष्ट अथिति के रूप में नपा वार्ड नो 02 के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि शिक्षा के प्रचार और प्रसार के लिए मुझ से जो बन पड़ेगा मैं करूँगा। प्रबन्ध समिति के कोषाध्यक्ष और नेपाली कांग्रेस के तेज तर्रार नेता अकिल मियां ने कहा कि जन सहयोग से मदरसा संचालित हो रहा है। मैं सबका आभारी हूँ।इंडो नेपाल विकास मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष अकरम पठान ने कहा कि तालीम से व्यक्तित्व का निर्माण होता है।

मदरसे के पूर्व प्रधानचार्य और स्थापना काल से ही मदरसे के विकास के लिये जद्दोजहद करने वाले मौलाना महबूब आलम ने कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता को और मजबूत बनाने की ज़रूरत है।

इससे पहले मदरसे के प्रधानाचार्य मौलाना अकील अहमद ने तिलावते कुरआन पाक से प्रोग्राम की शुरुआत की और आये हुए अतिथियों का पुरजोर लफ़्ज़ों से स्वागत किया। मौलाना अकील अहमद ने मदरसे का संक्षिप्त इतिहास भो बताया।संचालन सगीर ए खाकसार ने किया।

इस मौके पर अब्दुल कलाम खान,हसन मोहम्मद,राहुल मोदनवाल,मौलाना शाहिद रज़ा, मौलाना इसरार खान, मिर्ज़ा राशिद, सगीर खान, इंक़सार फारूकी, आदि लोगों के अलावा मदरसे के तमाम अध्यापक और विद्यार्थी उपस्थित रहे।

 

(331)

Leave a Reply