बसपा उम्मीदवार आफताब आलम छोटी छोटी सभाओं से बना रहे चुनावी जमीन

February 15, 2018 2:05 pm0 commentsViews: 655

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। बसपा के डुमरियागंज के बसपा लोकसभा क्षेत्र प्रभारी आफताब आलम ने अपनी चुनावी मुहिम अभी से छेड़ दी है। वे मणनीति के तहत दूरस्थ गांवों में छोटा छोटा सभाएं कर आम आदमी से सीध संवाद कर मजबूत नेटवर्क तैयार करने की कोशिश में लगे हैं। उन्हें इसमें कामयाबी भी हासिल हो रही है।
आफताब आलम जिले के बसपा अध्यक्ष दिनेश चन्द्र गौतम, पूर्व अध्यक्ष शेखर आजाद मदन लाल व राजेन्द्र कुमार के साथ गत दिनों खेसरहा क्षे़त्र के ग्राम कलना खोर और बांसी के ग्राम भरथनां में मीटिंग किया। उन्होंने भरथना शिवमंदिर यज्ञ पूजन में भी शिरकत की। आफताब आलम जहां भी जाते हैं वहां के सक्रिय लोगों के फान नम्बर लेते हैं। उस क्षेत्र की समस्या की जानकारी लेकर उसका रिकार्ड तैयार कराते हैं।और लोगों को भरोसा देते हैं कि चुनावी सफलता के बाद वे इस दिशा में काम करेंगे।
जिले भर में आफताब आलम अब तक ४० से अधिक गांव स्तरी सभाएं कर चुके हैं। उनका इरादा चुनाव प्रचार शुरू होने तक जिले के प्रत्येक गांव से एक बार सम्पर्क कर लेने का है। वह जहां भी जाते उस क्षेत्र के प्रभावशाली जाति के लोगों से कनेक्शन बना कर सोशल इंजीनियरिंग के सहारे अपनी चुनावी जमीन पुख्ता करते हैं। उनकी टीम में लगातर बढ़ते जा रहे सवर्ण वर्कर इसकी मिसाल हैं।

बसपा के पूर्व जिलाध्यक्ष शेखर आजाद कहते हैं कि पार्टी प्रत्याशी आफताब आलम भाई की भाषा शैली लोगों का मन मोह लेती है। वह मीटिंगों में किसी की आलोचना के बजाए सकारात्मक बातों पर जोर देते हैं। इसका प्रभाव जनता पर अच्छा पड़ रहा है। उनका कहना है कि इस बार के चुनाव में बसपा यहां से जीत हासिल करेगी, क्यों कि उनके प्रत्याशी मेहनती और मृदुभाषी हैं। वह सर्वसमाज का विश्वास जीतने में सक्षम हैं।
खुद बसपा उम्मीदवार का आफताब आलम का कहना है कि उनका किसी से मुकाबला नही है। वह यहां जनसेवा के लिए आये हैंA इसलिए किसी की आलाचना के बजाये जनता की समस्या पर गौर करने और उनकी बेहतरी के लिए काम करने आये हैं। इसलिए वह अपने किसी राजनीतिक प्रतिद्धंदी की आलोचना नही करते , बल्कि खामोशी से अपने काम में लगे हुए हैं। अब वह पूरी तौर से सिद्धार्थनगर में घर बना कर यहां के बाशिंदे हो गये है और जनोवा उनका कर्तव्य बन गया है।

(597)

Leave a Reply