नेपालः आंदोलन की भेंट चढ़ गया व्यापार, बाजारों में पसरा सन्नाटा

December 12, 2015 8:31 pm0 commentsViews: 251

संजीव श्रीवास्तव

नेपाल के एक बाजार में बिखरा सन्नाटा

नेपाल के एक बाजार में बिखरा सन्नाटा

पड़ोसी मुल्क नेपाल में जारी मधेशी आंदोलन ने हिमदेश की जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। विशेषकर मैदानी इलाकों में इस आंदोलन का खासा प्रभाव पड़ा है। भारतीय सीमा से सटे नेपाल के कृष्णानगर  सहित अन्य बाजारों में भी सर्द मौसम के बाद भी गर्मी नहीं आयी है। बाजार में ग्राहकों की चहलकदमी नहीं के बराबर है।

बता दें कि कृष्णानगर बाजार भारतीयों का मनपंसद शापिंग स्थल रहा है। इसके अलावा भैरहवा, नवलपरासी, लुम्बिनी आदि नगरों में भी सर्दी शुरु होते ही जैकेट, कंबल आदि की बिक्री शुरु हो जाती है। नेपाल के इन बाजारों में भारत के कई जिलों के लोग आकर अपनी खरीददारी करते थे, मगर इस बार बाजार में अभी सन्नाटा ही दिख रहा है।

व्यापार प्रभावित होने से यहां के व्यापारियों के माथे पर बल दिखायी दे रहा है। नाम न छापने की शर्त पर कई व्यापारियों ने कपिलवस्तु पोस्ट के रिपोर्टर से अपनी पीड़ा बतायी।

व्यापारियों ने कहा कि माना कि आंदोलन उनके हित के लिए है, मगर अब इससे व्यापार टूट गया है। सर्दी शुरु हो चुकी है, दुकानें भी खुल रहीं है, मगर खरीददारों के दिल में जो खौफ बैठा है। उससे वह नेेपाल की ओर आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे है।

व्यापारियों का कहना था कि आंदोलन से अब उनकी रोजी-रोटी पर असर पड़ने लगा है। ऐसे में अब इस आंदोलन की दिशा को बदलने की मांग भी जोर पकड़ने लगी है, मगर इसका मतलब यह नहीं है कि आंदोलन धीमा पड़ेगा।

(15)

Leave a Reply