डुमरियागंज: नाराज पत्रकारों ने की डा. सूफिया का रजिस्ट्रेशन रद करने की मांग

September 26, 2018 4:39 pm0 commentsViews: 819

— प्रेस क्लब के महामंत्री राशिद फारूकी की परिजन की दुखद मौत का मामला

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर।ग्रामीण पत्रकार संघ की डुमरियागंज की तहसील इकाई ने एसडीएम डुमरियागंज को ज्ञापन देकर वहां की एक चिकित्सक डा. सूफिया फारूकी का रजिस्ट्रेशन रद करने की मांग है। पत्रकारों का आरोप है कि डा. सूफिया ने पैसे की लालच में पत्रकार और प्रेस क्लब के महामंत्री मंत्री राशिद फारूकी की बहन के केस में घरवालों को गुमराह किया, वरना उनकी जान बच सकती थी थी।

बताया जाता है कि आज जिला ग्रामीण पत्रकार एसोशिएसन डुमरियागंज के अध्यक्ष आलोक श्रीवास्तव के नेतृत्व में संगठन के कार्यालय पर इकट्ठे हुए। सभी ने  मृतका के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए पूरे मामले के पीछे डा. सूफिया के लालच की प्रवृति बताया।  पत्रकारों ने कहा कि उन्होंने एक मासूम की जान तो ली, इस पव़ित्र पेशे को भी कलंकित किया है।

एशोसिएशन के डुमरियागंज इकाई के अध्यक्ष आलाेक श्रीवास्तव ने कहा कि इस मामले में एसडीएम को ज्ञापन सौंपेने के बाद आगे की रणनीति तय की जायेगी। इसके बाद सभी पत्रकारों ने एसडीएम डुमरियागंज को ज्ञापन देकर डा. सूफिया के नर्सिंग होम को तत्काल बद कराने, उनका रजिस्ट्रेशन रद करने और डा. सूफिया की डिग्री से लेकर उनकी कार्यशैली की जांच की मांग की।

ज्ञापन देने वालों में आलोक श्रीवास्तव के अलावा दैनिक जागरण के अजय कुमार पांडेय,अमर उजाला के जामिन रिजवी, हिंदुस्तान के  काजी रहमतुल्लाह सहित सुशांत गौतम, आफताब रिजवी, अनिल द्धिवेदी आदि शामिल रहे। बता दें की पत्रकार राशिद फारूकी की बहन की चार दिन पहले डा. सूफिया के जेरे इलाज मौत हो गई थी। पत्रकारों का कहना है कि इस मामले को वे प्रेस क्लब में लेकर जायेंगे।

इस सिलसिले में राशिद के परिजनों का कहना है कि नव प्रसूता  मरीज की बिगड़ती हालत बिगड़ती देख बाहर ले गोरखपुर/ लखनऊ ले जाना चाहते थे, लेकिन डा. सूफिया ने मरीज के असली तथ्य को छूपा कर पैसा बनाने के उद्देश से मरीज को नर्सिंग होम में लटकाऐ रखा। उन्हें तभी डिस्चार्ज किया जब वे मरणासन्न हो गईं। परिजन उन्हें लेकर ज्यों ही अस्पताल से निकले, मरीज की दुखद मौत हो गई।

 

(767)

Leave a Reply