25 साल बाद रविवार को पूरा होगा ब्राडगेज लाइन का सपना, रेलमंत्री सुरेश प्रभु करेंगे शुभारंभ

November 21, 2015 6:39 pm0 commentsViews: 565

नजीर मलिक

रेलमंत्री सुरेश प्रभु

रेलमंत्री सुरेश प्रभु

रेल के जरिए सिद्धार्थनगर को वाया बलरामपुर पूरे देश से जोडने का पचीस साल पुराना सपना कल रविवार को हकीकत में बदल रहा है। साढ़े तीन बजे रेलमंत्री जैसे ही ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे, इलाकाई विकास के सपनों को उड़ान की दिशा मिल जायेगी।

सरकारी एलान के मुताबिक रेलमंत्री सुरेश प्रभू रविवार को 1 बजकर 20 मिनट पर पहुंचेगे। लेकिन वहां सिर्फ सुशासन एक्सप्रेस को रवाना करेंगे। यह रेलगाड़ी गोंडा से ग्वालियर तक तक पहले से ही चल रही है। बस उसे बलरामपुर तक बढा दिया गया है।

असली कार्यक्रम 3 बजकर 15 मिनट पर बढनी में होगा, जहां रेलमंत्री इस लाइन की पहली ब्राडगेज ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। यह ट्रेन पहले दिन बढनी से रवाना होगी। लेकिन दूसरे दिन से गोरखपुर से लखनउ तक चलेगी। बढ़नी में वाशिंग पिट की आधारशिला भी रखी जायेगी।

सायं 6 बजे मंत्री प्रभु वहां एक एक्सप्रेस ट्रेन को रवाना करेंगे और एक फुट ओवर ब्रिज की आधारशिला रखेंगे। इसके अलावा इसको इलेक्ट्रिक लाइन बनाने को भी अधिकृत करेंगे।

आपको बताते चलें कि इस रेल लाइन को बड़ी लाइन में बदलने की बात वर्ष 1990 में कांग्रेस की बड़ी नेता मोहसिना किदवई ने की थी। मगर 1991 में सिद्धार्थनगर से लोकसभा चुनाव हार जाने के बाद वह परदे के पीछे हो गईं।

1991 में यहां के सांसद रामपाल सिंह ने इसका बीड़ा उठाया। बात कुछ आगे बढ़ी और वसूलन इसे ब्राडगेज में बदलने की बात मान ली गई। फिर बृजभूषण तिवारी लोकसभा और राज्यसभा सदस्य बने तो इस रूट के लिए टोकन मनी एलाट हुआ, मगर बात नहीं बनी।

2009 में कांगेस की सरकार बनने के बाद स्थानीय सांसद जगदम्बिका पाल ने इसे गति दी। धन अवमुक्त करया और काम पटरी पर आ गया। अपने पांच साल के कार्यकाल में उन्होंने आमान परिवर्तन का काम करा दिया

2014 में सरकार बदल गई लेकिन पाल दुबारा सांसद बने। इस बार वह सत्तधारी दल भाजपा से चुने गये थे। इसलिए उन्होंने इस काम को पूर्ण कराने में कामयाबी हासिल की। इस तरह यह सपना पूरा होया।

संसद जगदम्बिका पाल ने इस कार्यक्रम को जिले के विकास में मील का पत्थर बताते हुए,  इलाकाई  लोगों से बढनी के समारोह में जनता से पहुंचने की अपील की है। उनका कहना है कि इस समारोह में शिरकत गर्व का विषय होगा।

(17)

Leave a Reply