मोदी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरा सवर्ण समाज, दुकानें कराईं बंद, कहा इन्हें हटा कर दम लेंगे

August 11, 2018 3:35 pm0 commentsViews: 717

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। मोदी सरकार पर सवर्णो विरोध होने का आरोप लगााते हुए आज यहां सिद्धार्थनगर जिला मुख्यालय पर सवर्ण समाज के विभिन्न संगठनों के लोगों ने एक जुट होकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया तभा बाजार बंद कराया। इस अवसर पर ब्राहमण महासभा के प्रांतीय नेता श्यामनारायन मौर्य ने सवर्ण समाज से मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने की अपील की।

जानकारी के मुताबिक ब्राहमण समाज के बडे नेता पंडित श्यामनारायन चौबे के नेतृत्व में आज पूर्वान्ह ब्राहमण, क्षत्रिय, वैश्य, कायस्थ एव सवर्ण मुस्लिम आदि कि हजारो लोगों ने जिला मुख्यालय की सड़को पर उतर कर प्रदर्शन किया तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के विरोध में जम कर नारे लगाये। प्रर्दशनकारी तोदी तरी तानाशाही नहीं चलेगी, जैसे नारे भी लगाा रहे थे। लोगों के आक्रोश को उनके चेहरे की भिंची लकीरों से देखा जा सकता था। स्पष्ट था कि उनमें कितना गुस्सा भरा है।

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने दुकानें भी बंद कराया। अधिकांश दुकानदार भी अपनी दुकानें बंद कर उनके प्रदर्शन में शामिल हो गये। इस प्रकार जनाक्रोश ने बड़ा आकार ले लिया। टाउन की दुकानें घंटों बंद रहीं। इस प्रकार का सरकार विरोधी रुख कई वर्षों बाद यहां देखा गया। एक  दुकानदार ने कहा कि जिसे हमने देवता समझ कर वोट दिया था, उसी ने हमको कहीं का न छोड़ा।

प्रदर्शन के बाद लोगों को सम्बोधित करते हुए श्याम नारायण चौबे ने क कि सह सरकार आसे सवर्णों के खिलाफ फैसले ले रही है। अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम में कोर्ट के आदेश को उलट कर इस सरकार ने हमे अपमानित करने का रास्ता खेल दिया है। अब किसी दलित की ढूठी दरक्ष्वास्त पर हम जेल जायेंगे, हमारी इज्जत तो चली जायेगी, बाद में हम भीले ही निर्रो साबित हों। यह कानून सवर्ण विरोधी और मनुष्यता के खिलाफ है। हम मोदी को हरा कर ही चैन लेंगे।

सभा में श्याम नारायन पांडेय के अलावा अन्य वक्ताओं ने इस कानून का विरोध करते हुए आगामी चुनाव में मोदी सरकार को उखाडत्र फेंकने की अनील की। सभी व प्रदर्शन में श्री पांडेय के अलावा व्यापार मंडल के संजय कसौधन, ओंकार पांडेय, अनिल पांडेय, राजेश तिवारी, सचिन श्रीवास्तव, सोनू सिंह, पिंकू सिंह, राकेश सिंह, नबीन चौबे, बबलू खान, संजीत कसौधन, मिंकल सिंह, सहित सैकड़ों लोग शामिल रहे।

 

 

 

 

(684)

Leave a Reply