हत्याकांड से गुस्साये लोगों ने विधायक पर फेंकी स्याही और धूल, उत्पीड़न शुरू, पुलिस एक युवक को उठा ले गई

March 5, 2018 4:06 pm0 commentsViews: 2246

नजीर मलिक

” पूर्वी उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले के एक विधायक पर गत दिवस पब्लिक ने स्याही और धूल फेंक कर अपने गुस्से का इजहार किया। शोहरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के अपनी दल विधायक कल सायं अपने इलाके के गौरा बाजार चौराहा नामक  कस्बे में होली मिलन के लिए गये थे। वहां उनके खिलाफ ये घटना हुई। बाद में पुलिस ने मौके पर पहूंच कर उन्हें सुरक्षित ले गई। इस दौरान विधायक ने अपनी राइफल चला देने की धमकी भी दी, मगर भीड़ डटी रही।”

खबर के मुताबिक लगभग 5 बजे के आस पास विध्ाायक अमर सिंह वहां पहुंचे। ग्रामीणों का कहना था कि इस टाउन में मनीष हत्याकांड के चलते केवल सांकेतिक होली मनाई गई है, ऐसे में यहां कार्यक्रम करने की क्या तुक है। कहते है इसी मुद्दे पर विधायक पक्ष और जनता के बच विवाद हुआ। इस दौरान उनके खिलाफ नारे नलगने लगे, इसी दौरान किसी ने उनके ऊपर सस्याही फेंक दी, फिर कुछ लोगों ने धूल फेंक दी।

आज विधायक के खिलाफ एसपी को दिये गये ज्ञापन में गौरा के क्षेत्र पंचायत रवीन्द्र कुमार द्धारा लगाये गये आरोप के मुताबिक विवाद के दौरान विधायक अमर सिंह चौधरी ने लोगों को गालियां दीं और करबाइन से भून डालने की धमकी दी। रवीन्द्र मिश्र ने अपो आरोप की पुष्टि के लिए 14 मिनट कर एक विडियों भी दिखाया, जिसमें विधायक कारबाइन के चलवाने के अलावा और भी बहुत कुछ कहते नजर आ रहे हैं।

 क्यों गुस्साए हैं विधायक से ग्रामीण

गौरा बाजार इलाके के ग्रामीणों में विधायक अमर सिंह के खिलाफ गुस्से की लहर मनीष हत्या कांड बताया जा रहा है। गौरा बाजार निवासी बीएससी के टापर स्टूडेंट मनीष शुक्ला गत 21 जनवरी को हास्टल से गायब हो गया था।  29  जनवरी को उसकी लाश बरामद हुई थी। इस मामले में पुलिस कई बार स्टैंड बदल चुकी है। ग्रामीणों का आरोप है कि इस हत्याकांड में विधायक का सजातीय और दूर का रिश्तेदार संदिग्ध है, जिसे वे बचा रहे हैं, लिहाजा पुलिस मामले का पर्दाफाश करने में दिलचस्पी नहीं ले रही है। विधायक को पता था कि इस बार गौरा में सांकेतिक होली मनाई गई है, फिर भी उन्होंने वहां होली मिलन कार्यक्रम रखा। ऐसे में कुछ लोगों को बुरा लगा। इन लोगों का कहना है कि जो विधायक मेधावी छात्र की हत्या के बावजूद उनके कस्बे में नहीं आया, वो आज जले पर नमक छिड़कने क्यों आ गया?

पुलिस कर रही युवकों का उत्पीड़न

बताया जाता है कि इस घटना के बाद पुलिस सक्रिय हो गई है। विधायक के जाने के बाद उसने घटना की शाम से रात के बीच के बीच अपना उत्पीड़न शुरू कर दिया। चिल्हिया पुलिस ने राकेश मिश्र, इरफान अहमद, धीरज गुप्ता आदि के घरों पर दबिश दी। पुलिस ने उनके घरों पर गाली गलौज की, दरवाजे पीटे। मगर वहीं कोई न मिला। आखिर में वह दिनेश मिश्र नामक व्यक्ति को जबरन उनके घर से उठा ले गई, जबकि गौरा वासी बताते हैं कि घटना के समय दिनेश मिश्र गौरा से आठ किमी दूर बनगाई गांव में अपनी दुकान पर थे।

बीडीसी रवीन्द्र मिश्र ने इसके खिलाफ एसपी को आज पत्र भी दिया है। बताते हैं कि एसपी धर्मवीर सिंह ने थानाध्यक्ष को फोन पर डांट पी पिलाया है। रवीन्द्र कहते हैं कि चिल्हिया थाने की पुलिस विधायक अमर सिंह के इशारों पर काम कर रही है। उन्होंने एसपी से पुलिस पर लगाम लगाने की मांग भी की है।

  विधायक अमर सिंह ने कहा

इस मामले में विधायक अमर सिंह ने पत्रकारों के पूछने पर बताया कि उन पर स्याही फेंकी गई। वे जनप्रतिनिधि है। स्याही फेंकने वालों ने दंडनीय अपराध किया है। फिर भी उनहोंने किसी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नही कराया है। वे अपने ही क्षे़त्र की जनता के साथ  ऐसा कैसे कर सकते र्हैं। वे लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं। ग्रामीणों ने ही उनके प्रति ज्यादती की।

बता दें कि विधायक अमर सिंह अपने तकरीबन एक साल के काल में काफी विवादित रहे हैं। कई बार उनकी अभद्र भाषा के आडियों, विडियो वायरल हो चुके हैं। हाल में उनके और एक लेखपाल के बीच के वार्ता का आडियों भी सुर्खियों में रहा था।

 

 

 

 

 

सिद्धार्थनगर। सदर ब्लाक सभागार में शनिवार को पत्रकार प्रेस परि

(2105)

Leave a Reply