बुद्धम् शरणम् गच्छामि के उद्घोष संग तेईसवें कपिलवस्तु महोत्सव का शानदार आगाज

December 29, 2015 3:52 pm1 commentViews: 1494

नजीर मलिक

महोत्सव का उद्घाटन करते विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांउेय, सत्ूप पूजन पर लोगों को संबोधित करते सांंसद जगदम्बिका पाल साथ में अधिकारी और बौद्ध भिक्षु

महोत्सव का उद्घाटन करते विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांउेय, स्तूप पूजन पर लोगों को संबोधित करते सांंसद जगदम्बिका पाल साथ में अधिकारी और बौद्ध भिक्षु

सिद्धार्थनगर। गौतमबुद्ध की राजधानी प्राचीन कचिलवस्तु के प्रांगण में मुख्य स्तूप के पूजन एवं बुद्धम् शरणम् गच्छामि के उद्घोष के बीच आज सुबह 23वें कपिलवस्तु महोत्सव का आगाज हुआ। इस मौके पर जिले के राजनीतिज्ञ, अफसर, मीडियाकर्मी समेत विशाल जनसमुदाय उपस्थित रहा।

महोत्सव में पुलिस विभाग के स्टाल का एसपी अजय साहनी के साथ अवलोकन करते विस अघ्यक्ष माता प्रसाद पांडेय, कृषि विभाग के स्टाल पर विस अध्यक्ष, नगरपालिका अध्यक्ष जमील सिदृदीकी, पूर्व अध्यक्ष एसपी अग्रवाल और पूर्व जिलापंचायत अध्यक्ष मुमताज अहमद

महोत्सव में पुलिस विभाग के स्टाल का एसपी अजय साहनी के साथ जायजा लेते विस अघ्यक्ष माता प्रसाद पांडेय, कृषि विभाग के स्टाल पर विस अध्यक्ष, नगरपालिका अध्यक्ष जमील सिदृदीकी, पूर्व अध्यक्ष एसपी अग्रवाल और पूर्व जिलापंचायत अध्यक्ष मुमताज अहमद

तकरीबन 9 बजे कपिलवस्तु में अतिथियों और बौद्ध भिक्षुओं ने मुख्य स्तूप की परिक्रमा की। स्तुप पूजन के प्रतीक के रूप में बुद्ध के चित्र पर पुष्पांजलि हुई तथा सकेत मिश्रा व उनकी टीम ने कपिलवस्तु महोत्सव गान किया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि और उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांउेय ने गौतम बुद्ध की प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने पुरातात्विक महत्व के इस क्षेत्र के विकास की बात भी की और कहा कि सरकार इसके लिए संकल्पित है।

क्षेत्रीय सांसद जगदम्बिका पाल ने अपने सम्बोधन में अस्थिकलश का मुदृदा उठाया और कहा कि बुद्ध से जुड़े हर उन वस्तुओं को यहां लाया जाना चाहिए, जो यहां से प्राप्त हुए हैं।
उन्होंने कहा कि इसके लिए केन्द्र और प्रदेश के जिम्मेदारों का संयुक्त प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि अस्थि कलश लाये जाने के साथ यहां पर्यटकों के रात्रि विश्राम का इंतजाम भी जरूरी है।

इससे पूर्व जिलाधिकारी डा सुरेन्द्र कुमार, मुख्य विकास अधिकारी अखिलेश तिवारी, नगर पालिका अध्यक्ष मो जमील सिदृदीकी ने भी कपिलवस्तु पर अपने विचार प्रस्तुत किये।
अस्थि कलश लाये जलाने की मांग उठी

स्तूप पूजन के दौरा वहां पर गौतम बुद्ध का अस्थि कलष कपिलवस्तु में लाने की मांग शिदृदत से उठी। बसपा के पूर्व अध्यक्ष पीआर आजा, कामता यादव, भंते रिग्दम पोल आदि ने कहा कि अस्थिकलश को यहां के संग्राहालय में रखने से पर्यटन का बढावा मिलेगा। जिससे रोजगार के साधन बढेंगे।

कार्यक्रम को बसपा नेता पीआर आजाद, सपा नेता राम चन्द्र यादव, कामता यादव ने भी सम्बोधित किया। स्तूप पूजन के अवसर पर पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी, अपर जिलाधिकारी पीके जैन, परियोजना निदेश प्रदीप पांउेय, कृषि उपनिदेशक आदि की उपस्थिति रही।

विधानसभा अध्यक्ष ने किया उदृघाटन

दोपहर 12 बजे महोत्सव का विधिवत उदृघाटन विधानसभा अध्यक्ष ने महोत्सव पांडाल का फीता काट कर किया। जहां पुलिस बैंड की धुन बजी और उनका माल्यार्पण हुआ।
विधासभा अध्यक्ष श्री पांउेय ने मौके पर लगी प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा सरकारी स्टालों पर लोगों से योजनाओं के बारे में चर्चा की।

उन्होंने पुलिस विभाग के स्टाल को सराहा और कृषि विभाग के स्टाल पर खेती किसानी सम्बंधी जानकारी ली। लगभग दो बजे पंडाल में कपिलवस्तु महोत्सव की पत्रिका का विमोचन भी हुआ।

1 Comment

  • suraj chaudhary

    bhagwam buddh ki pawan bhumi ko mera koti naman.bhagwan buddh ne apne naye dharmik samajik darsan se bharat ke utthan ka marg prasast kiya.rastra ke nav nirman ke liye aaj bhi unka darshan prasangik hai.

Leave a Reply