घर से निकले दो मासूमों ने गंवा दी जान, कत्ल और हादसे में उलझा मामला, गांव में मातम

October 23, 2015 5:06 pm0 commentsViews: 212

हमीद खान

maina

दशहरे के दिन दो मासूम घर से बाप के लिए खाना ले कर निकले थे। वापसी में वह घर नहीं पहुंचे। दूसरे दिन 6 साल के टिक्कू और चार साल के बिटृटू की लाश मिलीं। पिता दिलीप पाठक ने अपने बच्चों की मौत को कत्ल कहा हैं। मामला सिद्धार्थनगर जिले के इटवा थाने के ग्राम मैना का है।

गुरुवार को दिलीप पांउेय के दोनों लड़के कैलाश उर्फ किटृटू और कार्तिक उर्फ बिटृटू दोपहर में गांव से बाहर पिता दिलीप पाठक को दोपहर का भोजन पहुंचान,े उनकी दुकान पर गये थे। दोनों भाई अक्सर पिता का दोपहर का भोजन लेकर खेलते कूदते दुकान तक पहुंच जाते थे।

गुरुवार को दशहरे के दिन तकरीबन तीन बजे दोनों भाई घर से खाना लेकर पिता की दुकान पर पहुंचे ओर कुछ देर बाद घर के लिए लौट गये। शाम सात बजे दिलीप घर पहुंचे तो पता चला कि उनके जिगर को टुकड़े घर पहीं पहुंचे हैं।

किसी अनजाने खौफ ने दिलीप को हिला दिया। फौरन बेटों की तलाश शुरू हुईं। घर औ दुकान के बीच एक पोखरा था। रात दस बजे पोखरे में भी जाल डाला गया, लेकिन कुछ हाथ न आया। दोनों बच्चों के गायब होने से वहां दशहरे का कार्यक्रम भी बेरौनक हो गया।

खबर है कि दूसरे दिन शुक्रवार को दोनों मासूमों की लाश उसी पोखरे में मिली, जिसमें रात में जाल डाला गया था। दोनांे की लाश देख कर मामला संदिग्ध हो गया। बच्चों के मुंह में झाग और उनकी नाक से खून निकला था। बकौल दिलीप पाठक उनकी किसी से दुश्मनी नहीं है। लेकिन बच्चों के लाश की हालत तो कतल का ही इशारा करती है।

दिलीप पाठक बताते हैं, कि उन्होंने मामले की लिखित तहरीर थाने पर दे दी हैं। इस घटना के बाद गांव में मातम का माहौल हैं। बच्चों की मां रो रो कर हलकान हैं। उसे समझ नहीं आ रहा कि उनके बच्चे की मौत क्यों और कैसे हुई।

समाचार लिखे जाने तक इटवा पुलिस तहरीर के आधार पर जांच कर रही है। संभावना बच्चों के डूबने बने की हैे, लेकिन आशंका तो हत्या की बनी हुई हैं।

(7)

Leave a Reply