राफेल देश का सबसे बड़ा घोटाला, नोटबंदी सबसे बड़ी साजिश- गुलाम नबी आजाद

October 27, 2018 4:21 pm0 commentsViews: 455

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर में कांग्रेस वर्करों को सम्बोधित करते हुए गुलाम नबी आजाद

कांग्रेस के दिग्गज और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि राफेल खरीद मामला देश का सबसे बड़ा घोटाला है। इसके अलावा नोटबंदी, भाजपा के काले धन को सफेद करने की चाल थी। भाजपा समाज और देश को साम्प्रदायिक विभाजन की ओर ले जा रही है। इसे महसूस कर   देश की जनता सत्ता परिवर्तन के लिए मन बना चुकी है। इसलिए अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भी इस मुहिम में पूरी ताकत से जनता से संवाद में लग जाना चाहिए।

कांग्रेस की जीत होगी बापू को सच्ची श्रद्धांजलि

पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद आज यूपी के सिद्धार्थनगर हेडक्वार्टर पर कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन में बोल रहे थे। जेल रोड स्थित विशाल मैदान के खचाखच भरे पंडाल में उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से उन्होंने कहा कि देश महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है। इस बार के चुनाव में बापू के विचारों वाली कांग्रेस पार्टी की जीत ही उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

जनता केन्द्र में सरकार बदलने को प्रतिबद्ध दिखती है

पूर्व मुख्यामंत्री गुलाम नबी ने कहा कि कई प्रदेशों में हो रहे चुनाव में काग्रेस की लहर है। उन प्रदेशों में जनता की मुखरता ने आने वाले लोकसभा चुनाव में परिवर्तन की आहट का संकेत दे दिया है। बस हमें कांग्रेस वालों को अपना संगठन मजबूत करन होगा। वह तो केन्द्र सरकार को बदलने के लिए प्रतिबद्ध दिखती है।

5 सौ करोड़ के विमान 16 करोड़ की दर से खरीदे गये

गुलामनबी आजाद ने आरोप लगाया कि राफेल घोटाला इस देश का सबसे बड़ा घोटाला है। 516 करोड़ प्रति विमान मूल्य वाला राफेल विमान 1600 करोड़ की दर से खरीद कर बड़ा घोटाला किया गया। यह  उन्होंने नोटबंदी को बड़ी साजिश की संज्ञा देते हुए कहा कि नोटबंदी के दौरान भाजपा और उनके पूंजी पतियों ने आपने काले धन को पिछले दरवाजे से सफेद कर लिया और देश की जनता को लाइनों में खड़ा कर मरने पर मजबूर कर दिया गया।

 सरकार हर मोर्चे पर नाकाम है

उन्होंने कहा कि आज डीजल पेट्रोल की कीमतें आसमान पर पहुंच गई हैं।रुपये की कीमत आजादी के बाद सबसे निचले स्तर पर है। मोदी सरकार हर मोर्चे पर नाकाम हो चुकी है। उन्होंने कहा कि अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए यह सरकार साम्प्रदायिकता का जहर फैला रही है। इस सच को जनता समझ रही है और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को इसके खिलाफ लड़ना होगा।

कौन कौन रहे शामिल?

इसके अलावा प्रदेश के दिग्गज नेता संजय सिंह और अमिता सिंह ने भी भी भाजपा और केन्द्र व प्रदेश सरकार को जम कर कोसा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से सरकार के खिलाफॅ जम कर संघर्ष करने का आहवान किया। सम्मेलन में काग्रेस के जिला अध्यक्ष ठाकुर प्रसाद तिवारी, पूर्व सांसद मो. मुकरम. पूर्व विधायक ईश्वर चंद शुक्ल अनिल सिंह, कांग्रेस नेता सच्चिदानंद पांडेय, काजी सुहेल. बख्तियार उस्मानी, अतहर अलीम, मशहूर अली, कैलाश पंछी, अनिल सिंह अन्नू, देवेन्द्र कुमर गुड्डू,  रंजना पांडेय, किरन शुक्ला, जिला पंचायत सदस्य महेश प्रसाद कनौजिया,  अफसर अहमद, कमाल अहमद आदि शामिल रहे।

अली अहमद ने कांग्रेस का थामा दामन

इससे पूर्व औवैसी की एआईएमआईएम पार्टी के पूर्वांचल प्रभारी अली अहमद ने कांग्रेस की सदस्यता ली। जिसका स्वागत तालियों से हुआ। बता दें कि अली अहमद १९७९ में कम्युनिस्ट पार्टी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुए थे लेकिन ९० के दशक में उन्होंने कांग्रेस को छोड दिया था। लगभग दो दशक बाद वह फिर अपने पुराने घर में वापस लौटे हैं।

 

 

 

 

 

(406)

Leave a Reply