उपचुनावः योगी के सीएम बनने के बाद गोरखपुर सीट पर कमजोर हुई भाजपा

March 10, 2018 3:05 pm0 commentsViews: 965

— आस पास के जिलों के सपाई बसपाई फांक रहे गोरखपुर की गलियों की धूल, जीतीय समीकरण उनके लिए उत्साहजनक

नजीर मलिक

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व सपा नेता माता प्रसाद पांडेय तथा बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी साझाा प्रचार करते हुए

“गोरखपुर लोकसभा सीट पर चुनाव  प्रचार बंद हो चुका है, अब सघ्ान जनसम्पर्कों का दौर है। भाजपा जहां अपने कार्यकर्ताओं को गांवों में उतार कर इस सीट को बचाने के लिए कटिबद्ध है, वहीं कांग्रेस और बसपा के कार्यकर्ता ‘भी अभी नहीं तो कभी नहीं’ की जिद के साथ गांव और गालियों की धूल फांक रही है। वैसे इस सीट से योगी जी के न लड़ने से भाजपा कुछ कमजोर जरूर दिख रही है।“

सपा बसपा तो पूरे लोसभा क्षेत्र में वर्करों का जाल फैला दिया है। पूरे लोकसभा क्षेत्र में अस पास के जिलों के कार्यकर्ताओं नेताओं को गोरखपुर बुला लिया है। उनकी टीमें बना कर सेक्टरवार डूयूटी लगा दिया है। इसमें सपा बसपा की टीमें बराबर भगीदार हैं। गौर तलब है कि दोनों दलों के कार्यकर्ता आपस में पूरा तालमेल बनाये हुए है। उधर सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद की जीत के लिए निषादों की पूरी टीम लग गई है।

सिद्धार्थनगर सपा के पूर्व विधायक विजय पासवान सेक्ट 11 में जनसम्पर्क करते हुए

कैम्पियरगंज क्षेत्र में सिद्धार्थनगर के सपा नेता व पूर्व विधायक विजय पासवान, लाल जी यादव, उग्रसेन सिंह,  सिद्धार्थनगर लोकसभा सीट के बसपा उम्मीदवार आफताब आलम, सहित सैयदा खतून, अरशद खुरशीद आदि जुटे हुए है। इसके अलावा सिद्धार्थनगर के सपा नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय व बसपा नेता विनय शंकर तिवारी ब्राहमण समाज के बीच जोकर उन्हें एकजुट कर रहे हैं। बता दें कि बसपा ने ब्राहमण मतों को एकजुट करने की जिम्मेदारी निय शंकर तिवारी परिवार को दे रखी है।

पूर्व विधायक विजय कुमार पासवान ने बताया कि सभी सपा के लिए गांव की बाजारों चाय पान की दूकानों पर व्यक्तिगत रूप से पहुंच कर वोट मांग रहे हैं। तमाम दलित नेता एक एक सजातीय घर पहूंच के उन्हें मायवती का सपा को वोट देने का पैगाम सुना रहे हैं। सभी को उम्मीद है सीएम बनने के कारण इस सीट से योगी आदित्य नाथ के हटने के बाद भाजपा यहां कमजोर हुई है और इस बार तीन दशक के अंतराल के बाद गोरखपुर में भाजपा को शिकस्त देने का सही अवसर आ गया है।

फिलहाल साढे तीन लाख निषाद, तीन लाख यादव,  मीन लाख दलित, २ लाख मुस्लिम और पौने दो लाख ब्राहमण मतों पर सपा की जीत की आशायें टिंकीं हैं। विधायक विनय शंकर तिवारी कहते हैं कि इस बार भाजपा को हारना होगा। दूसरी तरफ भापा अपने प्रत्याशी उपेन्द्र दत्त शुक्ल की जीतको लेकर  पूरी तरह उत्साहित है। उनका मानना है कि यहां से जनता योगी जी के मान के लिए भाजपा को वोट देंगी, हम लोगों की मेहनत तो केवल जीत का अंतर बढायेगी। फिलहाल वोटिंग ११ मार्च को सात बजे शुरू होगी, तो शाम तक तस्वीर थोड़ा और साफ होगी।

 

 

 

 

(871)

Leave a Reply