पत्रकार की गिरफ्तारी के खिलाफ एक हुए सभी दल व संगठन, कलेकट्रेट पर संयुक्त धरना

November 28, 2016 5:55 pm0 commentsViews: 374
Share news

— 11 बजे से 3 बजे तक एसएसबी के खिलाफ जम कर हुआ भाषण व नारेबाजी
—- सपा, भाजपा, कांग्रेस सहित कर्मचारी, शिक्षक, प्रधान, अधिवक्ता संगठन लामबंद
— जिला प्रशासन के रवैए की आलोचना, कहा: कलम के सिपाहियों पर नहीं आने देंगे आंच

नजीर मलिक

dhruv1
सिद्धार्थनगर। कपिलवस्तु के पत्रकार ध्रुव यादव की प्रायोजित गिरफ्तारी के विरोध में जिले के सभी राजनीतिक, सामाजिक व कर्मचारी संगठन एकजुट हो गए हैं। पत्रकार संघर्ष समिति के आंदोलन को समर्थन देते हुए सभी दलों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट में धरना दिया। सात दिनों बाद भी घटना की जांच के लिए कोई कदम न उठाने पर जिला प्रशासन के रुख की कड़ी आलोचना की। निष्पक्ष न्यायिक जांच की आवाज बुलंद करते हुए चेतावनी दी कि अगर कलम के सिपाहियों के साथ अन्याय हुआ तो कोई भी दल-संगठन चुप नहीं बैठेगा।

कलेक्ट्रेट परिसर में आयोजित धरने में भाजपा, सपा, कांग्रेस, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, अखिल भारतीय ग्राम प्रधान संगठन, राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन राज्य कर्मचारी महासंघ, जिला लेखपाल संघ, उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ, जिला बार एसोसिएशन, सिविल सिद्धार्थ बार एसोसिएशन, प्र्राथमिक सेवानिवृत्त शिक्षक संघ, टीईटी संघर्ष मोर्चा के प्रतिनिधियों ने शिरकत किया। सभी वक्ताओं ने कहा कि एसएसबी अपनी खामियों को छिपाने के लिए पत्रकार को झूठे मामले में फंसा रही है।

धरने को संबोधित करते हुए भाजपा जिलाध्यक्ष रामकुमार कुंवर ने कहा कि दूसरों की आवाज उठाने वाले पत्रकारों को आज खुद न्याय के लिए धरना देना पड़ रहा है, यह शर्मनाक स्थिति है। जिला प्रशासन होश में आए। सपा जिलाध्यक्ष अजय चौधरी ने मामले में जिला प्रशासन की संवेदनहीनता से प्रदेश नेतृत्व को अवगत कराने की बात कही। विधायक मलिक कमाल यूसुफ, विजय पासवान ने मामले को विधानसभा में रखने का वादा किया।

ग्राम प्रधान संगठन के मंडल अध्यक्ष ताकीब रिजवी ने कहा कि इस आंदोलन में प्रधान संगठन तन-मन-धन से साथ है। किसी भी स्तर पर जाने से पीछे नहीं हटेगा। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के मंडल मंत्री डॉ.अरुण प्रजापति, अनिल सिंह, शिवाकांत पांडेय ने चेतावनी दी कि अगर प्रशासन सार्थक कदम नहीं उठाता तो पूरे मंडल के कर्मचारी कलम बंद हड़ताल को मजबूर होंगे। शिक्षक संघ जिलाध्यक्ष राधेरमण त्रिपाठी ने भी आंदोलन में पुरजोर सहभागिता का ऐलान किया। राष्ट्रीय पंचायती राज प्रधान संगठन के राष्ट्रीय प्रवक्ता ललित शर्मा ने कहा कि इस मामले को राष्ट्रीय स्तर पर उठाते हुए गृह मंत्रालय तक पहुंचाया जाएगा। न्याय न मिलने तक संघर्ष जारी रहेगा। अंत में मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर योगानंद पांडेय ने राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन लिया।

धरने में यह हुए शामिल

धरना-प्रदर्शन में भाजपा के जिला महामंत्री दिलीप चतुर्वेदी, दीपक मौर्य, लालजी त्रिपाठी, श्याम सुंदर मित्तल, लक्ष्मीकांत जायसवाल, महेश वर्मा, सपा के जिला उपाध्यक्ष वीरेंद्र तिवारी, राज्यसभा सांसद के प्रतिनिधि अफसर रिजवी, सोनू यादव, खुर्शीद अहमद, जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सत्यदेव सिंह, प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष उमेश पांडेय, प्रधान संघ के जिला संरक्षक श्यामनारायण मौर्य, जिलाध्यक्ष पवन मिश्र, सुनील यादव, मो.हमजा, लेखपाल संघ के जिला उपाध्यक्ष रामकरन गुप्ता, फारेस्ट एसोसिएशन के रणजीत सिंह, दीपक श्रीवास्तव, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष ठाकुर प्रसाद तिवारी, राज्य कर्मचारी महासंघ के जयगोविंद यादव, टीईटी संघर्ष मोर्चा के जिलाध्यक्ष शिवेष मिश्रा, शिक्षक संघ के जिला मंत्री योगेंद्र पांडेय, रुपेश सिंह, अरुण सिंह  आदि ने भाषण दिया।

कार्यक्रम में पत्रकार संघर्ष समिति के एमपी गोस्वामी, नजीर मलिक, मनीष कुमार जायसवाल, रवींद्र त्रिपाठी, सत्यप्रकाश गुप्ता, इंद्रमणि पांडेय, परमात्मा शुक्ला, सुनील मिश्रा, सलमान आमिर, सिंहेश ठाकुर, अरविंद झा, अंकित श्रीवास्तव, संतोष श्रीवास्तव, इरशाद सिद्दीकी, एम. आरिफ मकसूद, राजेश शर्मा, परवेज, राकेश यादव, प्रदीप वर्मा, बलराम त्रिपाठी, जंगबहादुर चौधरी, धर्मबीर गुप्ता, शिवरतन, कमलेश मिश्रा, जयप्रकाश गुप्ता आदि शामिल रहे।

(15)

Leave a Reply


error: Content is protected !!