मधेशी आंदोलन की धुरी बनता जा रहा है नेपाल का शाह परिवार

December 6, 2015 4:36 pm2 commentsViews: 769

नजीर मलिक

सांसद अभिषेक प्रताप शाह, पूर्व चेयरमैन एपी शाह और युवा सितारा रजत प्रताप शाह

सांसद अभिषेक प्रताप शाह, पूर्व चेयरमैन एपी शाह और युवा सितारा रजत प्रताप शाह

सीमा से सटे नेपाल के कृष्णानगर टाउन का शाह परिवार मधेशी आंदोलन की धुरी बनता जा रहा है। नेपाल के तराई इलाकों में इस परिवार ने प्रचार से दूर रह कर अथक मेहनत से आंदोलन को शिखर तक पहुंचा दिया है।

शाह परिवार के युवा नेता अभिषेक प्रताप शाह वर्तमान में  कृष्णानगर इलाके से सांसद है। इनके वरिष्ठ परिजन रूद्र प्रताप शाह, अभय प्रताप शाह, अजय प्रताप शाह के साथ युवा रजत प्रताप शाह ने पूरे सीमाई इलाके में आंदोलन को खासी गति दी है।

तराई क्षेत्र के इस अति प्रतिष्ठित परिवार के सदस्य अतीत में सांसद, मंत्री ही नहीं राजशाही के दौर में नेपाल की सबसे बडी समिति रायल किंग कमेंटी तक में मुकाम हासिल करते रहे हैं। वर्तमान में नेपाल में लोकतंत्र आने के बाद मधेशी लोगों के साथ होने वाले भेदभाव के मुकाबले के लिए पूरा परिवार रण क्षेत्र में निकल पड़ा है।

खबर है कि परिवार का हर सदस्य प्रतिदिन घर से निकल कर मधेशियों को संगठित करता है। उन्हें लोकतांत्रिक संघर्ष के लिए प्रेरणा देता है। इस आंदोलन में वह लोग किसी से कोई योगदान नहीं लेते। बस उनका एक ही लक्ष्य है मधेश स्वाभिमान की रक्षा।

वर्तमान सांसद अभिषेक प्रताप शाह नेपाल में आंदोलन को संगठित करने के अलावा भारत में भी सक्रिय होकर लोगों को इस आंदोलन से जोड़ने में लगे हैं। पिछले सप्ताह वह विदेशमंत्री सुषमा स्वराज और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोशियारी तक अपनी आवाज पहुंचा कर आये हैं।

हालांकि मधेशी आंदोलन के कई दिग्गज नेता भी अपनी ओर से आंदोलन को मजबूत बनाने में जुटे हैं, लेकिन जिस तरह बिना स्वार्थ के यह परिवार मधेश स्वाभिमान की रक्षा के लिए जुटा है, उससे इस परिवार ने मधेशियों के दिलों में जबरदस्त जगह बना ली है।

(17)

2 Comments

  • This family has always been of the people, with the people and for the people of Kapilvastu both Madhesis and Tharus. This is a family, which contributed for generation in the development of the region. This is the family, which, though being a landlord family, never done a single instance of exploitation, oppression or any kind of harm to any person of the region. I remember an incident in Bahadurganj, when a domestic help, Kashi Mahara, under the influence of alcohol, used abusive language to honorable Shiv Pratap Shah, the eldest son of the Shah family and current MP Hon. Abhisekh Pratap Shah’s grand father, in front of dozens of people, but Shiv Pratap Shah was such a wonderful person, personification of Shiva ji, that he kept laughing at the incidence and did not even say a word to Kashi Mahara. If any family in Kapilvastu has earned widespread reputation and real admiration and respect from the people of Kapilvastu, it is this family. This is reason, why they get public support, irrespective of caste, creed and religion, in any election contest or any political activity they do.

Leave a Reply