बहुचर्चित मनीष हत्याकांडः परिजनों ने लगाया शोहरतगढ़ विधायक पर हत्यारों को बचाने का आरोप

February 13, 2018 5:44 pm0 commentsViews: 1940

नजीर मलिक

मनीष के पिता राजेन्द्र शुक्ल और उनके मामा रवीन्द्र मिश्र प्रेस से बात करते हुए

सिद्धार्थनगर।  जिले के शिवपति पीजी कालेज शोहरतगढ़ के बीएससी के छात्र मनीष शुक्ल की मौत ने अब नया मोड ले लिया है। मनीष के परिजनों ने शोहरतगढ़ के सत्ता पक्ष के  विधायक चौधरी अमर सिंह पर कथित हत्यारों को बचाने का सनसनी खेज आरोप लगा कर तहलका मचा दिया है। यह आरोप उन्होंने डीएम को दिये दो ताबड़तोड ज्ञापन में लिखित तौर पर लगाया है।

जिला मुख्यालय के ग्राम गौरा बाजार निवासी मनीष के पिता राजेन्द्र शुक्ल और उनके एक और परिजन रवीन्द्र मिश्र ने आज मंगलवार को इस मामले में डीएम कुणाल सिल्कू को ज्ञापन देकर अवगत कराया है कि मनीष के हत्यारों को विधायक अमर सिंह चौधरी  बचा रहे हैं। इस श्ररचन पर क्षे़त्र के दर्जनों लोगों  के दसतखत हैं।  इस आशय का ज्ञापन उन्होंने  डीएम को 2 फरवरी को भी दिया था।

ज्ञापन पर कोई कर्रवाई न होते देख कर मंगलवार को मनीष के परिजनासें ने आज मंगलवार को दुबारा ज्ञापन दिया।  ज्ञापन देने के बाद उनके पिता राजेन्द्र शुक्ल और मनीष के  माता रवीन्द मिश्र ने प्रेस रिलीज जारी किया।  उन्होंने प़त्रकारों को बताया कि पुलिस जिस भी सस्पेक्टड को पूछताछ के लिए पकडती है, विधायक अमर सिंह चौधरी उन्हें बचा लेते हैं। इस तरह मनीष की  हत्य के अपराधियों को बचाया जा रहा है।

इस बारे में विधायक अमर सिंह चौधरी से उनके मोबाइल नम्बर  9919412386  पर सम्पर्क किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। दूसरी तरफ मृतक मनीष के परिजनों का कहना है कि कि घटना में विधायक के रुख को देख कर मामले की सीबीआई जांच जरूरी हो गई है।

याद रहे कि सदर तहसील के गौरा बाजार निवासी बीएससी का  स्टूडेंट मनीष  शुक्ल 21  जनवरी को हास्टल से गयब हो गया था। एक सप्ताह बाद उसकी लाश पड़ोस की बानगंगा नदी में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने विधायक के सजाजीय लड़के से पूछताछ की थी, मगर अचानक ही जांच की वह लाइन बंद कर दी गई। इस मामले में ब्राहमएा सभा आंदोलित है, मगर जांच बेहद धीमी है। इससे लोगों में आक्रोश बढ़ रहा है।

 

 

(1796)

Leave a Reply