सभी नदियां लाल निशान के करीब, सिद्धार्थनगर में सड़कों पर बह रहा पानी

August 13, 2017 2:01 pm2 commentsViews: 120

नज़ीर मलिक

 

सिद्धार्थनगर। दो दिनों से हो रही बारिश के चलते जिले की सभी नदियां धीरे धीरे खतरे के निशान के करीब पहुंच रही हैं। दो दर्जन गाँव खतरे में घिर गए हैं। कई मार्ग बंद हो गए हैं।उधर सिद्धार्थनगर ज़िल मुख्यालय की दो सड़क पानी में डूब गयी है।

मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात से हो रही लगतार बारिश और नेपाल से छोड़े गए पानी से जिले में नदियो का जलस्तर का बढ़ना जारी है।जिले में बहने वाली अधिकांश नदियां खतरे के निशान के करीब हैं। आज दोपहर 12 बजे की सूचना के मुताबिक बानगंगा नदी का जलस्तर 91.30मीटर था।यहाँ खतरे का निशान 93.420मीटर है। इसी तरह जमुआर नाला का जलस्तर 82.23मीटर।खतरे का निशान है84.89मीटर, राप्ती नदी का जलस्तर बांसी पुल 83.780 मीटर इस नदी के खतरे का निशान है 84.900मीटर है।

बूढी राप्ती नदी का जलस्तर ककरही पुल 85.630मीटर पहुँच गया है।इस नदी का खतरे का निशान है 85.650 मीटर है। ये खतरे के निशान के करीब है। समाचार लिखे जाने तक इसने लाल निशान पार कर लिया है। दूसरी तरफ जमुआर नदी की बाढ़ से सदर तहसील के ग्राम जानकीनगर के पास सड़क पर पानी आ गया है। बाणगंगा की बाढ़ से भी शोहरतगढ़-बढ़नी मार्ग पर पानी चढ़ गया है। कूड़ा और बूढी राप्ती नदी की बाढ़ से उसका इलाके के ताल नटवा, ताल भिरौना, चनरैया, मारुखर आदि गाँव पानी से घिर गए है।

इसके अलावा ज़िल मुख्यालय पूरी तरह जलजमाव का शिकार है। नगर की व्यस्ततम सड़क खजुरिया मार्ग पर 2 फुट पानी चल रहा है। इसी तरह थाने से सिसहनियां जाने वाली सड़क पे भी पानी भरा हुआ है। दर्जनों मकानों में पानी घुस गया है।

(1)

2 Comments

Leave a Reply