फर्जीवाड़ाः एसडीएम का औचक निरीक्षण, स्कूलों में आधे से कम मिले बच्चे, कोटे का भी फर्जी फिकेशन

November 23, 2018 4:57 pm0 commentsViews: 319

 

मेराज़ मुस्तफा

सिद्धार्थनगर:-जनपद के इटवा तहसील क्षेत्र में उपजिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार द्वारा जारी छापेमारी अभियान में गत दिवस स्कूलों में बच्चे लामांकन के मुकाबले आधे से भी कम मिले। मतलब साफ थ कि नामांकन फर्जी है तथा अध्यापक अपनी योग्यता को साबित करने के लिए फर्जीबाडा के माध्यम से शिक्षा का कबाड़ा कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि पूर्व माध्यमिक विद्यालय दुफेड़िया के निरीक्ष्रण के दौरान विद्यालय परिवार के समस्त लोगों की उपस्थिति रही परन्तु पंजीकृत छात्रों की तुलना में 48 फीसदी छात्र-छात्राएं ही उपस्थित मिले। उपस्थित छात्र-छात्राओं से उपजिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार ने पाठ्यक्रम सम्बंधित प्रश्न भी किया, जिसपर सभी छात्रों द्वारा सही जवाब देने पर अध्यापकों एवं बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए छात्र उपस्थित को शत-प्रतिशत करने के लिए बच्चों व अभिभावकों को प्रेरित करने को कहा ताकि सर्वशिक्षा अभियान को पूर्ण सफल बनाया जा सके।

इसके बाद उपजिलाधिकारी ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली गोदाम का निरीक्षण किया। वितरण हेतु आवश्यक खाद्यान्न का साठ फीसदी ही उपलब्ध मिला।  जिसपर विपणन निरीक्षक इटवा द्वारा जानकारी दी गयी कि विपणन निरीक्षकों की हड़ताल व परिवहन ठेकेदारों द्वारा शेष राशन नही पंहुचाया गया जिसपर उपजिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार ने विपणन निरीक्षक को निर्देशित करते हुए जल्द से जल्द शत-प्रतिशत राशन गोदाम पर उपलब्ध करवाकर राशन वितरण का आदेश दिया।

उपजिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार ने विशेष रूप से विपणन निरीक्षकों और  पूर्ति निरीक्षको को निर्देश दिया कि प्रत्येक सार्वजनिक वितरण प्रणाली दुकानों के संचालक कोटेदार जब तक आवश्यक पांच प्रमाण पत्र सूची वितरण रजिस्टर,लेखपाल सत्यापन रिपोर्ट,पर्यवेक्षक रिपोर्ट के साथ ग्राम पंचायत से जारी प्रमाण पत्र तहसीलदार अथवा  उपजिलाधिकारी कार्यालय में अनिवार्य रूप से जमा नही कराते हैं तो दिसम्बर माह का खाद्यान्न उठान नही होगा। इसके बाद उपजिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार इटवा कस्बा स्थित श्याम ऑटो व उर्वरक केन्द्र का निरीक्षण कर खाद का सैम्पल लेकर जांच करने के लिए कहा

(297)

Leave a Reply