शारदा पब्लिक स्कूल में 1oवीं एवं 12वीं के छात्रों को दी गई विदाई

February 9, 2020 3:12 pm0 commentsViews: 571
Share news

 

निज़ाम अंसारी

शोहरतगढ़ स्थित शारदा पब्लिक स्कूल गड़ाकुल में शानिवार को 10 वीं और 12 वीं कक्षा के छात्र, छात्राओं के सम्मान में विदाई समारोह का आयोजन किया गया। ये सभी छात्र इंटर की परीक्षा में शामिल होंगे। समारोह की अध्यक्षता प्रधानाध्यापक अरविंद अग्रहरि ने की इस अवसर पर भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान इंटर सभी छात्र छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देकर प्रधानाचार्य एवं शिक्षकों ने सम्मानित किया। इस मौके पर सभी शिक्षक एवं शिक्षिकाओं द्वारा छात्रों के मार्गदर्शन हेतु सुझाव दिए और सफलता के टिप्स बताए। साथ ही उम्मीद जताई की परीक्षा में विद्यालय के सभी छात्र व छात्रा बेहतर प्रदर्शन कर विद्यालय का नाम रौशन करेंगे।  मुख्य अतिथि जोगिया ब्लॉक प्रमुख कौशलेंद्र त्रिपाठी नेककह कि हर किसी व्यक्ति के जीवन मे एक ऐसा समय आता है। कि हमे विद्यालय, कॉलेज, आफिस से विदा लेना पड़ता है। जिसमे हमे उस जगह में अंतिम समय मे अपने विदाई समारोह पर कुछ कहने का अवसर मिलता है। मैं सभी छात्र छात्राओं के उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूँ।
इस अवसर पर विद्यालय के प्रबंधक आशीष श्रीवास्तव ने कहा
मेरे प्रिय अनुजों वैसे तो आज यह खुशी और दुख दोनो का दिन है। खुशी का इसलिए कि मैं अपनी जिंदगी में एक कदम और आगे बढ़ूंगा। और दुख का कारण यह है कि मैं अपने प्रिय छात्र छात्राओं से बिछड़ जाऊंगा। सबसे पहले तो मैं अपने शिक्षकों का धन्यवाद करना चाहूंगा कि वह विद्यालय के बच्चों को इस काबिल बना सके।

इस स्कूल में नए बच्चे आने से पहले उनके अंदर अपनी बात रखने को लेकर बहुत हिचक रहती थी और आज बच्चों को एक दूसरे के साथ तर्क वितर्क करते हुवे बड़ा अच्छा लग रहा है । हमारा विद्यालय अच्छी शिक्षा देने को हमेशा से ही तत्पर रहा है।

छात्रों की तरफ से विदाई समारोह को संबोधित करते हुए विद्यालय की छात्रा मुस्कान ने कहा कि सुरु सुरु में विद्यालय में नाम लिखवाने को लेकर तरह की बातें और विद्यालय की शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर परिजन भी परेशान थे लेकिन यहाँ आने के पश्चात मेरी यह समस्या को मेरे शिक्षकों के द्वारा दूर कर दिया गया। मेरे पास बोलने के लिए वैसे तो कुछ ज्यादा नहीं।] लेकिन एक खुशी जरूर है। कि मुझे आज उन लोगो के बीच बोलने का अवसर प्राप्त हो रहा है। जो उस मोड़ में खड़े हैं। जहां उन्हें जीवन के संघर्षमय जीवन मे प्रवेश करना है। gh

(472)

Leave a Reply


error: Content is protected !!