एसएसबी जवानों ने नेपाल बार्डर पर 12.5 किग्रा चांदी के साथ आगरा के युवक को दबोचा

April 27, 2016 2:29 pm0 commentsViews: 224
Share news

संजीव श्रीवास्तव

खुली सीमा पर निगरानी करते एसएसबी के जवान और नेपाल में तैयार की जाने वाली चांदी की सिल्लियां

खुली सीमा पर निगरानी करते एसएसबी के जवान और नेपाल में तैयार की जाने वाली चांदी की सिल्लियां

सिद्धार्थनगर। नेपाल सीमा पर तैनात एसएसबी जवानों ने सिद्धार्थनगर जिले के सीमाई कस्बे ककरहवा से आगरा के युवक को 12.5 किग्रा चांदी सिल्लियों के साथ गिरफ्तार किया है। उसकी कीमत 6 लाख रुपये आंकी गयी है। पकड़े गये युवक का नाम राहुल कोटिया है। एसएसबी के डिप्टी कमांडेन्ट रवि खन्ना की मानें तो राहुल से कुछ अहम जानकारी मिली है। जिसके आधार पर जल्द ही बड़ी सफलता हासिल होगी।

मंगलवार को देर शाम ककरहवा पोस्ट के प्रभारी अनिल टिग्गा को जरिए मुखबिर सूचना मिली, कि कस्बें में एक व्यक्ति जेवरात तस्करी के काम से आया हुआ है। इस सूचना को उन्होंने गंभीरता से लेते हुए, मुखबिर के बताये स्थान पर पहंुच गये। वहां पर एक युवक की गतिविधियां संदिग्ध लगीं।

जवानों ने तत्काल उसको हिरासत में ले लिया और उसके पास मौजूद बैग की तलाशी ली गयी। इस दौरान बैग से चांदी की दो ईंटे बरामद हुई। जिनका वजन 12.5 किग्रा था। पूूछताछ के दौरान राहुल ने बताया कि वह अर्से से नेपाल के खुनगाई से चांदी लाता था और उसे जेवरात बनाकर सीमाई इलाकों में बेचता था।

सीमा पर स्थित सूत्रों की मानें तो नेपाल से सोना और चांदी की तस्करी लंबे समय से हो रही है। इस धंधें में स्थानीय जेवलर्स के साथ आगरा और अलीगढ़ के कई नामी गिरामी लोग जुड़े हैं। डिप्टी कमांडेंट अमित खन्ना के मुताबिक राहुल ने जेवरात तस्करों के रकैट की जानकारी दी है।

खुली सीमा का लाभ उठाते हैं तस्कर

ब्ताते चलें कि भारत- नेपाल की पूरी सीमा पूरी तरह से खुली हुई है, जिसका लाभ लेते हुए तस्कर टेढ़ी मेढ़ी पगडंडियों के माध्यम से नेपाल से तस्करी का माल लाते हैं। इस सीमा पर एसएसबी के जवान लगे तो हें, मगर पूरी सीूा खुली होने की वजह से चप्पे चप्पे पर नजर रख पाना उनके लिए बहुत कठिन है।

(5)

Leave a Reply


error: Content is protected !!