भ्रष्टाचार और पुलिस जुल्म के मद्देनजर इस सरकार को हटाना जरूरी- आफताब आलम

September 29, 2018 4:51 pm0 commentsViews: 297
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर ।बसपा के लोकसभा प्रभारी आफताब आलम उर्फ गुड्उू भैया ने इस सरकार को पंगु बताते हुए कहा है कि भष्टाचार और कानून व्यवस्था के माले पर यह पूरी तरह फेल हुई है। शिक्षक भरती में गड़बड़ियां, लखनऊ में एप्पल के मैनेजर विवेक तिवारी की पुलिस द्धारा सरेआम हत्या से लेकर केन्द्र के राफल घोटाले तक केन्द्र और प्रदेश की सरकारें बेनकाब हो चुकी है। ऐसी सरकारों और और उनके नुमाइंदों को उखाड़ फेंकना समय की पुकार बन गई है।

आज यानी शनिवार को बसपा प्रभारी आफताब आलम जो लॽस्थानीय लोकसभा से बसपा के घोषित उम्मीदवार भी है, ने  शोहरतगढ विधानसभा क्षेत्र में जनसम्पर्क के दौराऩ भुतहवा, कठेला, पचपेडवा, आदि गांवों में अपनी नुक्कड़ सभाओं में कहा कि जब सरकारें गूंगी और बहरे की भूमिका में आ जायें तो लोकतंत्र में जनता को वोटिंग के माध्यम से अपनी सरकार को अपनी व्यथा बतानी चाहिए।

लोकसभा प्रभारी आफतब आलम ने कहा कि वर्तमान में जिले की हालत बदहाल है। यहां बांसी से ककरहवा वाया सिद्धार्थनगर की यात्रा पहाड़ पर चढ़ने से भी कठिन है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र के सड़कों की भी ध्वस्त दुर्दशा है। गांवों में बिजली नहीं है। गावों के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर न डाक्टर हैं न दवाएं। यहां तक की अस्पताल में आम मरीजों के लिए दवाएं उपलब्ध नहीं है। उन्होंने सवाल उठाया कि क्या ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का हक है, जिनके राज में युवाओं के लिए नौकरी नहीं है, किसान की उपज बढ़ाने के लिए कोई कार्यक्रम नहीं है, महिलाओं की सुरक्षा और अपराधों पर नियंत्रण नहीं है।

उन्होंने कहा कि अंधेर नगरी की तरह यहां के राजा अर्थात मुख्यमंत्री जी किसानों को सलाह दे रहे हैं कि डायबेटिक के मद्देनजर किसान अब गन्ना न बोये। उन्होंने कहा कि ऐसी सलाह किसानों के साथ क्रूर मजाक है। अन्त में उन्होंने महंगाई की बात उठाते हुए कहा कि आज डीजल भारत में 73 से 80 रूपये और पेट्रोल 80 से 92 रुपये लीटर के बीच बिक रहा है। जनता त्राहि त्राहि कर रही है। डीजल पेट्रोल महंगा होने से सारे सामान महंगे हो जायेंगे, फिर भी यह सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

बसपा प्रभारी आफताब आलम ने  जनता से सत्ता परिवर्तन की अपील करते हुए कहा कि यदि आपने आगामी चुनाव में अपने इस भाई को समर्थन दिया तो वह इस सड़ी गली व्यवस्था को बदलने की हर मुमकिन कोशिश करेंगे। कार्यक्रम में आफताब आलम के अलावा राममिलन भारतीए, मुनीराम राजभर आदि  नेता भी सभा को संबोधित किया। इस दौरान अमजद अली प्रधान, डॉ० ओमप्रकाश, सजाउददीन अन्नू, अरविंद कननौजिया, शुभकरन चौधरी, सुधीराम गौतम, रामदेव चौहान, आलम भाई, प्रेम चौहान, रजाउद्दीन, अनिल कुमार, जमील प्रधान, अब्दुल सलाम, बलिराम आदि मौजूद रहे।

(157)

Leave a Reply


error: Content is protected !!