प्यार की जंग बन गई हत्या का सबब, जिगरी दोस्त ने की थी अंकुश यादव की हत्या

October 2, 2020 12:12 pm0 commentsViews: 804
Share news

आरिफ मकसूद

इटवा, सिद्धार्थनगर। मिश्रौलिया थानाक्षेत्र के मिठौवा गांव से गुजरने वाले परासी नाले के पास अंकुश यादव नामक युवा की लाश मिली थी। उसकी हत्या बहुत सनसनीखेज तरीके से की गई थी।  बृहस्पतिवार को इस हत्या कांड का इटवा पुलिस ने खुलासा किया।  हत्या एक लड़की से प्रेम में प्रतिद्वंदीता के चलते हुई। इटवा पुलिस ने जोल्हाभारी गांव के अंकुश यादव की हत्या को अंजाम देने वाले दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। कपिलवस्तु पोस्ट ने अपनी पूर्व की इंवेस्टीगेटिव स्टोरी में इसी दिशा की ओर इशारा किया था

दोस्त ही ने दिया कत्ल के वारदात को अंजाम

युवक की हत्या को लेकर आरोपियों ने पुलिस को जो कहानी बताई है उसके मुताबिक सनी  व अंकुश दोनों एक ही गांव के थे और आपस में दोस्त भी थे। सनी का एक लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था, किसी प्रकार से मृतक अंकुश यादव  भी उसी लड़की से बातचीत करने लगा था। अंकुश का उस लड़की से बात चीत करना शनी को नागवार गुजर रहा था, जो अन्ततः उसकी हत्या का कारण बन गया।

बताते हैं कि अंकुश यादव को जान से मार देने का इरादा तय करने के बाद शनी ने अपने मामा के लड़के रंजीत, ग्राम कुसम्ही थाना मिश्रोलिया को साथ मिलाया और घटना के दिन दोनों ने अंकुश को अपने साथ मिठौवा ले जाकर स्मार्टशू के जूते से उसका गला घोंटा और लाश को फेंक कर फरार हो गए।

जूते की फीते से गला घोंटकर की थी हत्या

पूछताछ के दौरान हत्यारे शनी ने बताया कि पूर्व प्लानिंग के तहत हत्यारे शनी ने अपने मामा के लड़के रंजीत के साथ मृतक को अपनी मोटर साइकिल पर बैठाकर मिठौवां परासी नाले के पास ले गया। जहां अंकुश यादव को पीछे से वार कर गिरा दिया और जूते के फीते से गला घोंट कर मार डाला।

मिठौवां परासी नाले के पास मिला था अंकुश का शव

28 सितंबर को मिश्रौलिया थानाक्षेत्र के मिठौवा गांव के पास से गुजरने वाले परासी नाले के पास एक किशोर की लाश मिली थी। शव की शिनाख्त इटवा थानाक्षेत्र के जोलहाभारी गांव निवासी अंकुश यादव (17) के रूप में की गई थी। हत्या के मामले में केस दर्ज करके जांच की जा रही थी जिसकी तफ्शीश एसओ इटवा वेदप्रकाश श्रीवास्तव, मिश्रौलिया मनोज त्रिपाठी, प्रभारी एसओजी पंकज पांडेय ने की थी। इसमें  आरक्षी दिलीप द्विवेदी, अवनीश सिंह, मृत्युंजय कुशवाहा आदि का सहयोग रहा।

(777)

Leave a Reply


error: Content is protected !!