एक करोड़ की राधा-कृष्ण की प्राचीन अष्टधातु मूर्ति बरामद, चार पकड़े गये, एक फरार

May 24, 2018 3:26 pm0 commentsViews: 1001
Share news

 

— नेपाल ले जाने की फिराक में थे तस्कर, 8 साल पहले भी चुराई गई थी यह मूर्ति, मगर तीसरे दिन ही हो गई थी बरामद

अजीत सिंह

पकड़े गये मूर्ति व चोरों के साथ पुलिस टीम

सिद्धार्थनगर। ढेबरूआ थाने की पुलिस ने 15 दिन पूर्व  इटवा के त्रिलोकपुर थाना क्षेत्र से तकरीबन एक करोड़ की राधा-कृष्ण की अष्टधातु की मूर्ति की चोरी का पर्दाफाश करते हुए मूर्ति के साथ चार तस्कों को भी गिरफ्तार कर लिया या है। जिनमें दो नेपाल के है। गिरफ्तारी कल गुरुवार शाम पांच बजे नेपाल बार्डर पर की गई। घटना में शामिल पुलिस कर्मियों को एसपी धर्मबीर सिंह ने 10 हजार का इनाम दिया है।

आज सिद्धार्थनगर में हुई प्रेसवार्ता में एसपी सिद्धार्थनगर, डा.धर्मवीर सिंह ने बताया कि एस ओ ढेबरुआ अखिलानंद उपाध्याय को मुखबिर से सूचना मिली की कि 9 अप्रैल को त्रिलोकपुर थाने के बुढ़ऊ गांव के मंदिर से चुराई गई अष्टधातु की प्रचीन मूर्तियों को लेकर मूर्तिचोर बढ़नी टाउप के कल्लउिहवा मुहल्ले की बाग में मौजूद हैं और वह उसे नेपाल ले जाने की तैयारी में है। वहां से नेपाल की सीमा लगभग सटी हुई है।

एसपी के मुताबिक इस महत्वपूर्ण सूचना के बाद एसओ अखिलानंद के नेतृत्व में पुलिस फोर्स ने बाग को घेर लिया। जहां मोटर साइकिल में लटके ढोले से मूर्ति बरामद हुई। इसी के साथ पुलिस ने जाकिर हुसैनसमय प्रसाद दोनो निवासी बढ़नी व जीशान और सुहेल निवासी कुष्णानगर नेपाल को गिरफ्त में ले लिया। पांचवा अभियुक्त भोला कुर्मी भागने में कामयाब रहा।

एसपी धर्मवीर सिंह ने बताया कि राधा कृष्ण की ये मूतियां त्रिलोकपुर थाने के बुढऊ गांव से चुराई गयी थी। इसकी कीमत लगभग एक करोड़ रूपये है। उन्होंने बताया कि मूर्ति तस्कर इस मूर्ति को 24 अगस्त 2010 को भी चोरी कराने में सफल हो गये थे, मगर वह तीन दिन बाद ही बरामद कर ली गई थी। जाहिर है कि इस कीमती मूर्ति पर तस्कर अरसे से निगाह लगाये हुए है। पुलिस कप्तान ने घटना में लगे सभी पुलिसजनों को 10 हजार का इनाम दिया है।

 

(681)

Leave a Reply


error: Content is protected !!