सपा सरकार में मंत्री के बेटे ने पत्रकार को मारी गोली, घायल पत्रकार राकेश की हालत नाजुक

February 8, 2016 2:06 PM4 commentsViews: 1486
Share news

मोहम्मद फैसल फरीदी

अस्पताल में जिंदगी मौत के बीच जूझ रहे घायल पत्रकार राकेष सिंह

अस्पताल में जिंदगी मौत के बीच जूझ रहे घायल पत्रकार राकेश सिंह

बलरामपुर। उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री डॉक्टर शिव प्रताप यादव के बेटे राकेश यादव ने दर्जनों सहयोगियों के साथ पत्रकारों पर हमला कर दिया। इस वारदात में एक स्थानीय पत्रकार राकेश सिंह की हालत गंभीर है। उन्हें ज़िला मेमोरियल चिकित्सालय बलरामपुर में भर्ती करवाया गया है। इसके अलावा कुछ और पत्रकारों के ज़ख्मी होने की खबर है। यह मारपीट बलरामपुर ज़िले के गैंसड़ी में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान हुई। 

चश्मदीद के मुताबिक मंत्री के बेटे राकेश यादव सैकडों समर्थकों के साथ अपने ब्लाक प्रमुख उम्मीदवार श्याम कुमार जायसवाल की पत्नी के पक्ष में वोट डलवा रहे थे। इसी दौरान दोपहर लगभग 12 बजे राकेश यादव ने एक महिला वोटर से जबरन वोट डलवाने की कोशिश की। यह हंगामा सुनकर वहां मौजूद पत्रकार भी पहुंच गये और हैंडीकैम से रिकॉर्डिंग शुरू कर दी।

चश्मदीद का आरोप है कि यह देखकर मंत्री एस पी यादव भड़क उठे और उन्हीं के इशारे पर उनके बेटे राकेश यादव ने अपनी रिवॉल्वर पत्रकारों पर तान दी। फिर उन्होंने अपने समर्थकों को पत्रकारों पर हमले के लिए उकसाया और लाठी, डंडा, सरिया चलने लगा। इस बीच सभी पत्रकार जान बचा कर इधर उधर भागने लगे कि तभी मंत्री पुत्र ने कट्टे से स्थानीय पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक पर फायर कर दिया। राकेश खून से लथपथ होकर सड़क पर ही गिर गये। राकेश सिंह स्थानीय अखबार निर्भीक दैनिक के रिपोर्टर हैं।

जख्मी हालत में राकेश को ज़िला मेमोरियल चिकित्सालय बलरामपुर ले जाया गया जहां हालत नाज़ुक होने के नाते उन्हें लखनऊ के लिए रेफर कर दिया गया। ज़ख्मी हालत में ही राकेश सिंह ने नगर कोतवाली इंचार्ज मधुर मिश्रा पर बुरा बर्ताव करने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि सत्तापक्ष का दबाव होने के कारण मधुर मिश्रा ने उनकी पत्नी के साथ अभद्रता की।

वहीं पुलिस की कार्रवाई और मंत्री डॉक्टर शिव प्रताप यादव के इशारे पर उनके बेटे राकेश यादव के ज़रिए पत्रकारों पर किए गए हमले से पत्रकारों में काफी गुस्सा है। समाजसेवी अनुराग यादव, शाबान अली, बीजेपी के ज़िला अध्यक्ष राकेश सिंह, ज़िला मिडिया प्रभारी धीरेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ़ डीपी सिंह समेत अधिवक्ताओं ने भी पत्रकारों पर किए गए हमले की निन्दा की है। खबर लिखे जाने तक पुलिस ने पत्रकार पर जानलेवा हमले की रिपोर्ट नहीँ लिखी थी।

4 Comments

  • धरना, प्रदर्शन से कुछ नहीं होगा-इमरान नियाजी

    दो दशक से देखा जा रहा है कि मीडिया कर्मियों पर हमलों की तादाद में इजाफा हुआ है। कोई थप्पड़ मार देता है तो कोई गालियां सुना देता है जिसका जब मन चाहा झूठे मुकदमे लाद दिये, यहां तककि अब तो हद हो गयी कि पत्रकारों को कत्ल किया जाने लगा। अब वक्त आ गया यह समझने का कि मीडिया पर हमले क्यों बढ़ते जा रहे हैं, क्यों मीडिया इतनी कमजोर हो गयी कि जो नेता मीडिया से घबराया करते थे वे मीडिया पर हमलावर हो गये?
    पत्रकारों को अपना खोया हुआ मान सम्मान दुबारा हासिल करने के लिए अपनी सोच बदलनी होगी, दलाली ओर चमचागीरी छोड़नी होगी, बड़े छोटे, असली फर्जी, ऊंच नीच, हिन्दू मुस्लिम का भेदभाव मिटाकर एक जुट होकर नेताओं, अफसरों, की कवरेज, कान्फ्रेंस, आदि बन्द करके हर मामले हकीकत खोजकर हकीकत को ही पेश करना होगा, अपराधिक मामलों में पुलिसिया कहानी को ही पेश करने की बजाये खुद मामले की जांच करके पेश करनी होगी, कुल मिलाकर पत्रकारों को पत्रकार बनना होगा, पूरी तरह से निगेटिव मुद्रा में आना होगा, तब ही कुछ वजूद बच सकता है सिर्फ संगठन बनाने, ज्ञापन देने धरना प्रदर्शन करने से कुछ नहीं होने वाला। हमारे कुछ साथियों का कहना है कि हम लाला (अखबारध्चैनल के मालिक) की नोकरी कर रहे है तो जो वे चाहते हैं वेसा ही लिखते हैं इसपर हमारा कहना है कि लाला की दुकान हमसे चलती है हम लाला की दुकान से नहीं चलते, इसलिए हम सिर्फ सच्चाई ही पेश करें, सोचिये अगर सभी पत्रकार बन्धु एक राय हो जाये तो लाला की दुकान कैसे चलेगी। धरना, प्रदर्शन, ज्ञापन, घेराव, वगैरा से कुछ हासिल होने वाला नहीं। इसलिए सीधा रास्ता पकड़कर सरकार, खददरधारियों, अफसरान को टोटल बायकाट करना होगा।
    आपका भाई
    इमरान नियाजी
    अन्याय विवेचक स0पत्र
    https://avnn.in
    https://anyayvivechak.com

  • Media lar hamla huwa aur media chup hai kya yahi media ka power hai ? Ye ek bada sawal hai ki aj media goongi aur bahri hoti ja rahi hai

  • Media par hamla huwa aur media chup hai kya yahi media ka power hai ? Ye ek bada sawal hai ki aj media goongi aur bahri hoti ja rahi hai

  • har ek channel bika hua hai shayad is leye aaz aap halla nahi bol pa rahe hai.agar dum hai toh aaz apni aukat deekha do aur aam aadmi kisi ko banata hai toh woh use bigad bhi deta hai.aaz aapki bari hai apni takat deekhane ko.

Leave a Reply