खुलासाः प्रत्याशी सजीवन चौधरी ने रची थी बढ़नी चाफा में हिंसा की साजिश, बाबूलाल था उसका मोहरा, दोनों होंगे गिरफ्तार

December 7, 2015 10:47 pm0 commentsViews: 582
Share news

नजीर मलिक

थानाध्यक्ष को पुरस्कार देते एसपी अजय कुमार साहनी

थानाध्यक्ष को पुरस्कार देते एसपी अजय कुमार साहनी

सिद्धार्थनगर। डुमरियागंज के बढ़नी चाफा कस्बे में मतदान के बाद हिंसा कराने की साजिश वहां ंके प्रधान पद के प्रत्याशी राम सजीवन ने रची थी। कथित गोली खाने वाला बाबूलाल उसका मोहरा था। बेवा अस्पताल के डाक्टर ने उसे फर्जी रूप से गोली से घायल बताया था। राम सजीवन के साथ बाबूलाल को भी जेल भेजा जायेगा और चिकित्सक के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जायेगी।

सोमवार अपरान्ह चार बजे पुलिस लाइन में इसका दावा पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी ने प्रेस कान्फ्रेंस में किया। उन्होंने अपनी बात के समर्थन में कई सबूत भी रखे।

एसपी अजय साहनी ने कहा कि बढ़नी चाफा में पुलिस की फायरिंग नहीं हुई। वहां बैलेट बाक्स लूटने की प्लानिंग थी, जिसे रोकने के लिए पथराव कर रहे कुछ लोगों पर पुलिस ने लाठियां जरूर चलाईं।

अपने दावे के समर्थन में एसपी ने कहा कि बाबूलाल के सीेने में कोई घाव नहीं है। उसके सीने पर हल्की खरोच है और वह कल तक बस्ती हास्पीटल से मुक्त हो जायेगा। उन्होंने बस्ती से लाई गई मेडिकल रिपोर्ट भी पेश की और कहा कि उसमें बाबूलाल को गोली लगने की बात से इंकारकिया गया है।

पूरे मामले को साजिश बताते हुए कहा कि मतदान के बाद प्रत्याशी राम सजीवन चौधरी को लगा कि वह हार जायेगाए,  तो उसने मत पेटिका लुटवाने की प्लानिंग की, ताकि वहां फिर से चुनाव हो सके।

एसपी ने बताया कि इस काम में 15 लोग थे, जिन्होंने पथराव कर माहौल बिगाड़ा।पुलिस ने सबकी पहचान कर ली है। पांच गिरफ्तार है और 10 जल्द पकडे जायेंगे। इनमें अस्पताल में दाखिल बाबूलाल को भी गिरफ्तार किया जायेगा।

बेवा अस्पताल के चिकित्सक डा चौधरी की भूमिका साजिशकर्ता को मदद देने वाली बताते हुए एसपी ने कहा कि अगर बाबूलाल के सीने में गोली लगी थी तो उन्होंने उसका दाखिला अस्पताल के रजिस्टर में दर्ज क्यों नहीं किया। इसकी मेमो पुलिस को क्यों नहीं भेजा। क्यों बिना इलाज के उसे बस्ती रिफर किया। उन्होंने कहा कि डाक्टर चौधरी के निलंबन के लिए शासन को लिखा जायेगा।

एसपी ने मौके पर तैनात पुलिस कर्मियों को मतपेटिका लुटने से बचाने के लिए पांच -पांच सौ रुपये का पुरस्कार भी प्रदान किया। इसके अलावा सीओ डुमरियागंज को प्रशस्ति पत्र भी दिया।

 

(13)

Leave a Reply


error: Content is protected !!