निकाय चुनाव भाजपा से टिकट की रेस में कौन दावेदार आगे और कौन पीछे?

March 16, 2023 1:09 PM0 commentsViews: 776
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। जिले की 11 नगर निकायों में होने वाले चुनाव में भाजपा खेमे से टिकट के दावेदारों का तांता लगा हुआ है। भाजपा भी जिताऊ कैंडीडेट की तलाश में सभी दावेदारों को ठोक बजा कर उनकी राजनीतिक हैसियत का आंकलन करने में लगी हुई है। दूसरी तरफ दावेदार भी भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की गणेश परिक्रमा में लगे देखे जा रहे हैं।

नगर पंचायत उसका व डुमरियागंज

जिले की उसका बाजार एवं डुमरियागंज नगर निकाय में गत चुनाव में भाजपा बहुत कम मतों के अंतर से पराजित हुई थी। हारने के बाद उनके प्रत्याशी तभी से मेहनत कर रहे हैं। इसलिए स्थानीय सूत्र डुमरियागंज से मकसूदन अग्रहरि और उस्का बाजार से हेमंत जायसवाल की दावेदारी बहत मजबूत मान रहे है। हालांकि डुमरियागंज में भाजपा के रमेश सोनी, अशोक अग्रहरि आदि अन्य दावेदार भी अपने को मुख्य दौड़ में शामिल मानते हैं। मगर पलड़ा तो मकसूदन के पक्षा में झूका दिख रहा है। जबकि नगर पंचायत उस्का के पूर्व अध्यक्ष रहे हेमंत जायसवाल के सामने तो कोई सशक्त चुनौती ही नहीं दिख रही।

इटवा बाजार में तग़ड़ी प्रतिद्धंदिता

नगर पंचायत इटवा बाजार में भाजपा से टिकट के लिए सर्वधिक मारामारी दिखती है।   यहां वैसे तो आधा दर्जन टिकट के दावेदार है।मगर मुख्य लड़ाई पुराने कार्यकर्ता शिवकुमार वर्मा, युवा कार्यकर्ता व एक पूर्वमंत्री के करीबी विकास जायसवाल व भाजपा समर्थक व शहर के प्रमुख व्यापारी अनिल जायसवाल तथा इटवा के पूर्व प्रधान रहे माधो यादव के बीच है।विकासजायसवल की ताकत जहां उनके समर्थक पूर्व मंत्री हैं। वहीं निल जायसवाल के मददगार पार्टी के र्क बड़े नता है। माधो यादव को जहां अपने जनाधार पर भरोसा है वहीं शिकुमार वर्मा कार्यकर्ताओं के बीच अपनी पकड़ व लम्बी राजनीतिक जिंदगी को अपनी पूंजी मानते है।फिलहाल यहाटिकट दावेदारी की टक्कर बराबर की दिख रही है।

शोहरतगढ़ में गुप्ता परिवार का कोई विकल्प नहीं

शोहरतग़ढ़ नगर पंचायत में हिदू युवा वाहिनी के स्व. सुभाष गुप्ता परिवार की लगातार जीत के कारण यहां से किसी और को टिकट मिलने की संभावना न के बराबर है। उम्मीद है कि इस बार भी पूर्व अध्यक्ष सुभाष गुप्ता के ही परिवार के ही किसी को टिकट दिया जाएगा। इसके अलावा बर्डपुर नगर पंचायत में बर्डपुर के पूर्व प्रधान व भाजपा विधायक के पुत्र ओम प्रकाश को टिकट मिलने के चांस ज्यादा हैं। हालांकि यहां दो अन्य लोग भी टिकट के दावेदार है।

 

 

 

Leave a Reply