भनवापुर में ब्लाक प्रमुख को लेकर समाजवादी खेमे में पेंच, उम्मीदवार चुन पाना टेढ़ी खीर

January 12, 2016 2:54 PM0 commentsViews: 835
Share news

नजीर मलिक

दावेदारों के संरक्षक पूर्व विधायक जिप्पी तिवारी, जिलाध्यक्ष झिनकू चौधरी  और पप्पू मलिक

दावेदारों के संरक्षक पूर्व विधायक जिप्पी तिवारी, जिलाध्यक्ष झिनकू चौधरी और पप्पू मलिक

सिद्धार्थनगर। भनवापुर ब्लाक के लिए तीन प्रभावशाली सपाइयों द्धारा दावेदारी जता देने से वहां उम्मीदवारी को लेकर पेंच फंसता दिख रहा है। तीनों दावेदार के परिजन अपनी अपनी गोटी फिट करने में लगे हैं।

महिला के लिए आरक्षित इस ब्लाक से तीन सपा नेताओं के घर की महिलाओं के चुनाव लड़ने की जोरदार चर्चा है। इनमें सपा जिलाध्यक्ष अजय उर्फ झिनकू चौधरी की अनुज बहू, विधायक जिप्पी तिवारी की पत्नी संध्या तिवारी और मलिक जफर उर्फ पप्पू मलिक की भाभी अफसर जहां शामिल हैं।

हाल में सपा के उम्मीदवारों के चयन में सपा विधायकों और विधानसभा प्रभारियों को महत्वपूर्ण भूमिका दिए जाने के पार्टी आलाकमान के निर्देश के बाद यहां पेंच फंस गया है। भनवापुर ब्लाक दो विधानसभा क्षेत्रों इटवा और डुमरियागंज में आता हैं। इसलिए नियमतः यहां से उम्मीदवार का फैसला इटवा विधायक व विस अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय और डुमरियागंज के प्रभारी राम कुमार उर्फ चिनकू यादव की सहमति से करना है।

खबर है कि इस विकास खंड से चिनकू यादव की पहली पसंद पप्पू मलिक हैं। दूसरी तरफ पेंच और तगड़ा है। जिलाध्यक्ष अजय चौधरी और पूर्व विधायक जिप्पी तिवारी दोनों ही विस अध्यक्ष माता प्रसाद के करीबी हैं। इसके अलावा रज्जन पांउेय भी अपने परिजन को उम्मीदवार बनाने के लिए विस अध्यक्ष पर दबाव बनाने के प्रयास में हैं।

हालांकि विधानसभा अध्यक्ष ने जाहिरा तौर पर अभी तक अपनी पसंद किसी को नही बताया है, मगर सूत्रों का कहना है कि वह जिप्पी तिवारी की पत्नी को टिकट दिये जाने के पक्षधर हैं। लेकिन अजय चौधरी भी उनके खासम खास हैं। इसलिए वह फैसला किसके पक्ष में करेंगे यह देखना दिलचस्प होगा।

फिलहाल भनवापुर के चारों सपाइयों ने चुनाव लड़ने के लिए कमर कस रखी है, लेकिन पार्टी तो किसी एक पर ही मुहर लगायेगी। ऐसे में शेष तीन का फैसला क्या होगा, यह बड़ा सवाल है। जानकार तो यही कहते हैं कि लड़ाई मजेदार होने की उम्मीद है।

Leave a Reply