समृद्धि का रास्ता पिछड़ों के विकास के बीच से गुजरता है- आफताब आलम

November 30, 2018 1:58 pm0 commentsViews: 167
Share news

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। पिछ़ड़ा वर्ग के साथ आजादी के बाद से केन्द्र सरकारों ने निरंतर छल किया है। वर्तमान भाजपा सरकार ने पिछउों को छलने की परंपरा जारी रखा है। जबकि सच यह है कि देश के साठ प्रतिशत पिछड़ों को वंचित बना कर विकास का मार्ग नहीं बनाया जा सकता है। अब समय आ गया है कि पिछड़ा वर्ग के सभी लोग एकजुट होकर बसपा की सरकार बनाने के लिए मेहनत करें। क्योंकि इस समाज को विकसित और मजबूत कराने का काम केवल बसपा और बहिन मायावती जी ही कर सकती हैं।

यह बातें बहुजन पार्टी के डुमरियागंज लोकसभा क्षेत्र के प्रभारी/ प्रत्याशी आफताब आलम ने कहा। वह शुक्रवार को बसपा के जिला कार्यालय पर पिछड़ा वर्ग के सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। इसमें अति पिछड़ी जातियों की विशाल भागीदारी थी। सम्मेलन में उन्होंने कहा कि सरकार पिछड़ों के आर्थिक व सामाजिक उन्नयन के लिए कोई काम नहीं कर रही है।

आफताब आलम ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश सहित प्रदेशों में जहां भी भाजा की सरकार है पिछड़ों को फर्जी मुठभेड़ों में मारा जा रहा है। पिछड़ा वर्ग के लोगें को पुलिस थानों में थानाध्यक्ष बनाने से परहेज किया जा रहा है। नौकरियों में उनकी उपेक्षा की जा रही है। उनके पारम्परिक रोजगार धंधों को सरकारी मदद नहीं दी जा रही है। इस प्रकार उन्हें एक रणनीति के तहत बेरोजगार बनाया जा रहा है। देश की आबादी का 60 प्रतिशत होने के बावजूद उनको राष्ट्रीय संसाधनों का मात्र 5 प्रतिशत लाभ ही मिल पा रहा है। यह अन्याय है।

उन्होंने कहा कि इस देश में प्रायः हर तबके के नायकों की मूर्तियां लगाई जा रही हैं। उनके नाम पर शहर, सकूल, कारखानों और सड़कों आदि का निर्माण होता हैं, लेकिन आज पिछड़ों के नायक भीमा अहीर, अवंती बाई, साहू जी महाराज जैसे पिछड़ा वर्ग के नायकों को उपेक्षित किया जा रहा है, इसलिए कि यह वर्ग संगठित नहीं है और भाजपा उन्हें ध्रर्म के झांसे में फंसा कर उनका हक और अधिकार छीन रही है।उन्होंने कहा कि क्या इन नायकों के नाम पर स्कूल कालेज नहीं खोले जा सकते? अंत में उन्होंने कहा कि पिछडों के विकास के लिए उनको संगठित होना पड़ेगा।

सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए राम कृपाल मौर्य एवं दाना बहादुर चौधरी ने कहा कि ड़ि वर्ग की तस्वीर बदलना है तो आपको बसपा को अपनाना होगा, बहिन जी को जिताना है तो भाई आफताब आलम को मदद करना होगा, क्योंकि अफताब आलम की जीत ही बहन जी का मार्ग प्रशस्त करेंगी, जिससे पिछड़ों का विकास होगा।

कार्यक्रम में मुनीराम राजभर, भरतलाल निषाद, विस्भुती निषाद, दान बहादुर चौधरी, भगवान दयाल प्रजापति, राजकुमार यादव, अमरेश पल यादव, राजाराम लोधी, राकेश कुमार प्रजापति, सुभकरण चौधरी, ज्वालाप्रसाद राजभर, अखिलेश मौर्य, विजय बहादुर चौधरी, रामचंद्र चौधरी, रामलाल चौधरी, रामशंकर मौर्य, सुरेशचन्द्र मौर्य, रामसेवक लोधी, राजाराम लोधी, राममिलन लोधी, गेल्हुई प्रजापति, खदेरू प्रजापति, तीहुल प्रजापति, राजकुमार मौर्य, रवि कुमार मौर्य, तिलक राम मौर्य आदि लोग उपस्थित रहे |

 

(56)

Leave a Reply


error: Content is protected !!