छठ पूजा पर घाटों पर उम़ड़ी भीड़, व्रती ने कहा, लेईं ए सुरज देवता अरघ हमार

November 17, 2015 6:34 PM0 commentsViews: 326
Share news

संजीव श्रीवास्तव

छठ पूजा पर सिद्धार्थनगर मुख्यालय पर सूर्य को अर्घ्य देने की तैयारी में जुटीं व्रती

छठ पूजा पर सिद्धार्थनगर मुख्यालय पर सूर्य को अर्घ्य देने की तैयारी में जुटीं व्रती

‘केलवा के पात पर उगेलन सूरज देव, ईल अरग के बेर’, ‘हे दीनानाथ दर्शन दी हीं न अपन’ आदि छठ गीतों के साथ मंगलवार को सिद्धार्थनगर जिले में छठव्रतियों ने उपवास रखा और सायं नदी व तालाबों के घाटों पर पहुंचकर डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया।

मंगलवार को यानी छठ के दिन सर्वाधिक उत्साह सिद्धार्थनगर हेडक्वार्टपर पर रहा। शहर के लोग खास कर महिलाओं कर उत्साह देखते ही बनता था। उनके साथ बच्चे भी पूरी सज धज के साथ थे

अपरान्ह चार बजे के बाद से ही महिलाएं पूजा के लिए बांस की बनी हुई बड़ी टोकरी (दौरी) व सूप म्ों पूजा के सारे सामान डाल कर तैयार हो गयीं और सुमधुर भक्ति गीत गाते चल पड़ीं घाट की ओर।

देवकरी के लिए उन्होंने गन्ने के पेड़ से छत्र बनाया और उसके नीचे म्टिी का एक बड़ा बर्तन, दीपक, म्टिी का हाथी बना कर रख उसमें पूजा का सामान रखा।

पूजा अर्चना करने के बाद शाम को एक सूप में नारियल कपड़े में लिपटाकर व साथ में पांच प्रकार के फल, पूजा के का अन्य सामान लेकर दौरी में रख श्रद्धालुओं ने घरों से प्रस्थान किया। फिर घाट पर पहुंच कर डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया।

छठ के मौके पर जमुआर नदी के घाट पर व्रतियों के स्वागत में नगरपालिका अध्यक्ष मो. जमील सिदृदीकी स्वयं मौजूद थे। श्राद्धालुओं के लिए घाट पर जनरेटर के माध्यम से बिजली का पक्का इंतजाम रहा। थानाध्यक्ष शिवाकांत मिश्रा के नेतृत्व में पुलिस टीम भी मौके पर उपस्थित रही।
इसी प्रकार जिले के बांसी, डुमरियागंज कस्बों के व्रतियों ने अपने अपने करीब के राप्ती तटों पर अलख जगाई। महिलाओं ने विधि विधान के साथ भगवान भास्कर की पूजा कर पूरी श्रद्धा के साथ उन्हें

Leave a Reply