जिला पंचायत चुनाव में भाजपा की शर्मनाक हार, 45 में 7 सदस्य ही जीत सके,  सपा ने दिखाई ताकत

May 4, 2021 3:10 pm2 commentsViews: 1577
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर।  पंचायत चुनाव में सत्ताधारी दल को करारा झटका लगा है।  जिला पंचायत के 45  सदस्य पद के लिए  हुए चुनाव में भाजपा को गड़ी शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है। अधिकांश सीटों पर भाजपा के दिग्गज नेता, उनके परिजन, या भाजपा समर्थित उम्मीदवार हार गये हैं। भाजपा की पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष व पूर्व जिला अध्यक्ष तथा प्रदेश के पूर्व संगठनमंत्री व संग के वरिष्ठ नेता की पत्नी तक चुनाव हार गई हैं। ऐसी करारी पराजयों को देख कर ऐसा लग रहा है कि आने वाले जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सत्ताधारी दल भाजपा के छक्के छूट सकते हैं। वैसे सामान्यतयः बहुमत तो विरोधी दलों के संयुक्त उम्मीदार के पक्ष में देखी जा रही है, मगर सत्ताधरी दल की अपनी ताकत होती है, जो कुछ भी संभव बना सकती है।

मिली जानकारी के अनुसार सिद्धार्थनगर जिला पंचायत चुनाव में भाजपा को बड़ी शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है। भाजपा से तीन बार विधानसभा प्रत्याशी पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष साधना चौधरी की बुरी हार हुई है। इसके अलावा संघ के बड़े नेता व प्रदेश भाजपा के पूर्व संगठन मंत्री बृजबिहारी मिश्र की पत्नी और भाजपा के हाल तक अध्यक्ष रहे लाल बाबा त्रिपाठी की बहूं को भी बुरी हार का समना करना पड़ा है।  इसके अलावा भी पार्टी के कई साख वाले चेहरों को हार का सामना करना पड़ा है। केवल एक मात्र भाजपा नेता हरिशंकर सिंह ही ऐसे हैं जिनकी पत्नी शंति सिंह न केवल जिला पंचायत का चुनाव जीती  बल्कि उनकी अनुज बहूं व पुत्रवधू भी बीडीसी का चुनाव जीतने में का रहीं।

बहरहाल जिले के सारे जिला पंचायत सदस्यों की दलगत स्थिति निम्न है।  जिसे देख का अनुमान लगाया जा सकता है कि जिला पंचायत lसदस्य पद के लिए उसके कुल सात सदस्य ही जीत सके हैं। देखें सूची—

वार्ड नम्बर 1 से सबलू साहनी (निर्दल) जीते। वार्ड नम्बर 2 से रमजान अली (सपा) से जीते। वार्ड नम्बर 3 से जहूर खां जीते। वार्ड नम्बर 4 से सुखराज यादव (प्रसपा) जीते। वार्ड नम्बर 5 से ईनल चौधरी (निर्दल) जीते। वार्ड नम्बर 6 से मुरलीधर उपाध्याय सपा सीट से जीते। वार्ड नम्बर 7 से पूर्व ब्लाक प्रमुख जाकिर हुसैन (निर्दल), वार्ड नम्बर 8 से मिहरा, वार्ड नम्बर नौ से कृष्ण कुमार, वार्ड नम्बर 10 से दिलीप (कांग्रेस), 11 से राम कृपाल चौधरी, 12 से इजहार (कांग्रेस), 13 से इसरार अहमद (बसपा), 14 से सुजाता सिंह (भाजपा), 15 से क्षमा तिवारी (भाजपा), 16 सुषमा उपाध्याय (निर्दल), वार्ड नम्बर 17 से पूजा यादव (सपा), वार्ड नम्बर 18 से अमलावती (भाजपा), वार्ड नम्बर 19 से नंदिनी (भाजपा), 20 से ताहिरा खतून (सपा), वार्ड नम्बर 21 से पूजा यादव पत्नी रवि प्रकाश (सपा), वार्ड नम्बर 22 से  मिथिलेश शर्मा, वार्ड नबर 23 से आयशा खान, वार्ड नम्बर 24 से बेचई यादव (सपा), वाड्र नम्बर 25 से शांति सिंह (भाजपा),  वार्ड नम्बर 26 से निर्मला यादव (सपा),  वार्ड नम्बर 27 से अमित निषाद सपा, वार्ड नम्बर, वार्ड नम्बर 28 से सुनरा वार्ड नम्बर 29 मीना देवी, वार्ड नम्बर 30 से अनिल कुमार कनौजिया, (सपा), वार्ड नम्बर 31 से दिलीप कुमार (निर्दल), वार्ड नम्बर 32 से शीतल सिंह ( भाजपा) निविरोध) वार्ड नम्बर 33 से अंकिता/मोनू दुबे (सपा) से  जीते। वार्ड नम्बर 34 से विवेक राय (निर्दल) से जीते। वार्ड नम्बर 35 से अनिता द्रीवेदी (सपा),  वार्ड नम्बर 36 से बच्ची देवी, वाड्र नम्बर से 37 गैसबुन, वार्ड नम्बर 38 से चिंता, वार्ड नम्बर 39 से रामभरोसे चौहान (निर्दल) जीते। वार्ड नम्बर 40 से इन्द्रमणि पुत्र सुनील यादव (सपा) से जीते। वार्ड नम्बर 41 से नवल किशोर, वार्ड नम्बर 42 से रिंधु पासवान (सपा), वार्ड नम्बर 43 से सुमित्रा देवी, 44 पुनम देवी (सपा) , 45 चन्द्रदेव यादव ( सपा)

उपरोक्त सूची देख कर समणा जा सकता है कि 45 सदस्यों में भाजपा के मात्र 7 सदस्य ही जीत सके हैं। जबकि सपा के 15 सदस्य जीते है। इसके अलावा शेष पदों पर बसपा, कांग्रेस,  प्रसपा व निर्दलों की जीत हुई है। ऐसे में भाजपा अपना जिला पंचायत अध्यक्ष किस प्रकार जिता सकती है।  इसके विपरीत सपा ने काफी सीटें जीत रखी है। सपा, बसपा को भी सीअें मिली हैं। इससे जाहिर है कि इस बार मुकाबला मजेदार व रोमांचक होने जा रहा है।

 

 

(1539)

Leave a Reply


error: Content is protected !!