कारबाइड से फल पकाने पर डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश, मगर सवाल है क्या आदेश लागू हो सकेगा?

February 18, 2021 12:37 PM0 commentsViews: 201
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। कैलिशयम कारबाइड से फलों व सब्जियों को पकाने वालों की जांच होगी और ऐसा करते पाया जाने वाला व्यक्ति या फल सब्जी विक्रेता दंड का भागीदार होगा। क्यों कि ऐसे फल और स्ब्जी मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हैं।

यह निर्देश जिलाधिकारी दीपक मीणा ने जिला कृषि उपनिदेशक को को दिया है। डीएम गत दिवस किसान दिवस पर अफसरों की एक बैठक में शिकायतों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में बताया गया कि अधिकांश शिकायतों का निस्तारणा कर दिया गया है। उन्होंने बैठक में अन्य कई योजनाओं की भी समीक्षा की। लेकिन सवाल यह है कि जिलाधिकारी का यह निर्देश क्या असर दिखा पायेगा?

बैठक में जिलाधिकारी मीणा ने किसान दिवस में किसानो की समस्याओं को सुना तथा उन्होंने उपनिदेशक कृषि को निर्देश दिया कि आम का सीजन आ रहा है। जिन्हें पकाने के लिए लोग आम तौर से कारबाइड का प्रयोग करते हैं। जो स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक है। इसलिए उसे रोकने के लिए उप निदेशक कृषि को सख्त कदम उठाना होगा। इस पर उप निदेशक ने शीघ्र रणनीति बना कर कारर्वाई का आश्वासन दिया।

बता दें कि जिले में बिक्री के लिए खे जाने वाले शत प्रतिशत आम कारबाइड से ही पकाए जाते हैं, इसके अलावा सब्जियों का उत्पादन भी आक्सोटोसिन जैसे तमाम इंजेशनों का होता है जो सेहत बेहद के लिए बेहद खतरनाक होता है। इसकी राेकथाम के लिउ प्रशासन हर साल निर्देश जारी करता है, मगर कार्रवाई कभी नहीं होती। हर साल फल विक्रता अफसरों से सांगांठ कर अपना धंधा बेखौफ चलाते हैं। लिहाजा जिलाधिकारी का यह आदेश कितना असरदार होगा, यह देखने की बात होगी।

Leave a Reply