वेलडन कप्तान साहब! फोन पर रिश्वत के लिए प्रधान को धमकाने वाले ‘दारोगा जी’ सस्पेंड

September 2, 2023 12:21 PM0 commentsViews: 988
Share news

वायरल आडियो-विडियो के आधार परकिसी पलिसकर्मी को दंडित करने की पहली घटना, पुलिस कप्तान की चारों तरफ हो रही तारीफ

नजीर मलिक

युवा पुलिस कप्तान अभिषेक अग्रवाल

सिद्धार्थनगर। त्रिलोकपुर के नायब दारोगा भीम सिंह को पुलिस अधीक्षक ने सस्पेंड कर दिया है। दारोगा भीम सिंह पर मुकदमा कमजोर करने के एक ग्राम प्रधान से रिश्वत मांगने का आडियो जम कर वायरल हुआ था। मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी ने जांचोपरांत यह कार्रवाई की है।  यह पहली दफा है जब एक पुलिस कप्तान ने आडियो आयरल होने पर तत्काल कारवाई की है वरना अभी तक ऐसे तमाम आडियो-विडियो वायरल होने के बाद भी किसी पुलिस कर्मी पर कार्रवाई न होने की परम्परा रही है। कप्तान के इस एक्शन की जिले में खुलकर प्रशंसा हो रही है।

क्या थी रिश्वत की पूरी काहानी

बता दें कि त्रिलोकपुर थाना क्षेत्र के तेनुई गांव के प्रधान गुरु सहाय व राम सूरत के बीबी व बच्चों के बीच झाडू लगाने को लेकर आठ जुलाई को विवाद हुआ गया था। राम सूरत द्वारा त्रिलोकपुर थाने में ग्राम प्रधान गुरु सहाय व उनके भाई बब्बन, दद्दन, रक्षाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। दरोगा भीम सिंह उस मामले की विवेचना कर रहे थे। उन्होंने राम सूरत की पत्नी प्रीतलता व पुत्री कविता तथा मां मंगरैली देवी और पुत्र अमित कुमार व साले के गवाही पर मुकदमा दर्ज कराया।

उसके बाद गुरु सहाय को फोन कर आरोपी दरोगा भीम सिंह ने धारा कम करने के एवज में 40 हजार रुपये की मांग की। जिस गुरु सहाय ने 15 हजार देकर बाकी पैसा बाद में देने की बात कही। उसी पैसे को लेकर प्रधान के भाई बब्बन को करीब दो सप्ताह से फोन कर पैसे की मांग की जा रही थी। बार-बार रुपये न होने की बात बब्बन करता रहा। समय से पैसा नहीं देने पर दरोगा गाली कलौज के साथ धमकी देते थे। इसी बीच रुपये के लेनदेन का आडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा। मामला पुलिस अधीक्षक के पास पहुंचा तो उन्होंने सीओ को जांच सौंप दिया।

सीओ ने की थी जांच

इस मामले में एसपी ने सीओ डुमरियागंज से वायरल आडियो की जांच कर रिपोर्ट मांगी थी। सीओ डुमरियागंज की ओर से भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर कप्तान ने रिश्वत मांगने वाले आरोपी दरोगा भीम सिंह को निलंबित कर दिया। इस संबंध ने सीओ डुमरियागंज सुजीत कुमार राय ने इसकी पुष्टि  करते हुए कहा है कि वायरल आडियो की रिपोर्ट कप्तान को भेजी गया थी।जिसके बाद पुलिस अधीक्षक के आदेश पर आरोपी दरोगा को निलंबित किया गया।

एसपी के एक्शन की पूरे जिले में है चर्चा

जिले के युवा पुलिस अधीक्षक अभिषेक अग्रवाल द्वारा दारोगा को सस्पेंड करने से जहां पुलिस विभाग में खौफ तारी है वहीं इसकी चर्चा पूरे जिले हो रही है। आम आदमी का कहना है कि घूस मांगने का आडियो वायरल होने के 48 घंटों  के अंदर जिस प्रकार जांच कर कार्रवाई की गई वह सराहनीय है। इसका प्रभाव पुलिस विभाग पर जरूर पड़ेगा। वर्ना इसके पहले जाने कितने आडियो विडियो वायरल हुए मगर कभी किसी पर कार्रवाई न हुई।

Leave a Reply