लाहिया कला भवन में किसान मेला एवं फसल अवशेष प्रबंधन तथा कलेक्ट्रेट सभागार में गौशाला प्रबंधन सम्बंधित बैठक संपन्न

September 12, 2019 6:49 pm0 commentsViews: 377
Share news

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। लोहिया कला भवन में जनपद स्तरीय गोष्ठी/किसान मेला एवं फसल अवशेष प्रबंधन कार्यक्रम सम्बंधी बैठक किया गया। जिसकी अध्यक्षता सांसद जगदम्बिका पाल ने डीएम दीपक मीणा की उपस्थिति में की। इसके अलावा डीएम की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में गौशाला प्रबंधन समिति की एक बैठक खण्ड विकास अधिकारी और प्रधान व सेक्रेटरी के साथ संपन्न हुई।

सूचना विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार गोष्ठी का सांसद डुमरियागंज  जगदम्बिका पाल द्वारा द्वीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया गया। सांसद पाल ने गोष्ठी में कहा कि किसानों की आय को दोगुनी करने के लिए सरकार द्वारा प्रयास किया जा रहा है। हमारा जनपद काला नमक चावल के लिए दुनिया में जाना जाता है। आज कालानमक धान की खेती बहुत कम किसान करते है। कालानमक की उपज बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा निरन्तर प्रयास किया जा रहा है।

जिलाधिकारी दीपक मीणा ने किसान सम्मान निधि योजना, केसीसी, फसल बीमा योजना आदि के बारे में किसानों को विस्तृत जानकारी दी गयी। धान बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन अवश्य करा ले, फसलों का अवशेष न जलायें। गोष्ठी में जिलाधिकारी ने दूर-दराज से आये किसानों की समस्याओं को सुनकर उसका समाधान कराने के लिए संबधित अधिकारियों को निर्देश दिया।

उपकृषि निदेशक लालबहादुर यादव ने बताया कि किसानों की आय दोगुनी करने के दृष्टिकोण से लागत को कम करना महत्वपूर्ण है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए बुआई/रोपाई आधुनिक तकनीकी से करना चाहिए। उत्पादन बढ़ाने हेतु किसानों को अपने खेत के मिट्टी की जांच करानी चाहिए। इस अवसर पर कृषि विभाग द्वारा स्टाल लगाकर विभाग द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में लोगो को जागरूक किया गया।

इस गोष्ठी में उपरोक्त के अतिरिक्त पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती साधना चैधरी, ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि भनवापुर लवकुश ओझा तथा किसानों की उपस्थिति रही।

गौशाला सम्बंधी बैठक कलेक्ट्रटे सभागार में

गौशाला प्रबन्धन के संबध में खण्ड विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान तथा सेक्रेटरी के साथ जिलाधिकारी दीपक मीणा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक संपन्न हुआ। जिलाधिकारी दीपक मीणा ने सर्वप्रथम ग्राम प्रधानों की समस्याओं को सुना तथा समस्याओं का समाधान कराने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी द्वारा मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को गौशाला संचालकों को वजट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। जिला पंचायत राज अधिकारी को ग्राम पंचायतों में रोस्टर के अनुसार साफ-सफाई तथा शौचालय निर्माण की प्रगति बढ़ाये जाने का निर्देश दिया गया। जिलाधिकारी दीपक मीणा ने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को प्रत्येक माह ग्राम प्रधानों के साथ बैठक कराने का निर्देश दिया।

इस बैठक में मुख्य विकास अधिकारी हर्षिता माथुर, अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) सीताराम गुप्ता, डीसीएनआरएलएम रामआसरे सिंह, जिला विकास अधिकारी राजेन्द्र प्रसाद, समस्त खण्ड विकास अधिकारी तथा ग्राम प्रधानों की उपस्थिति रही।

(118)

Leave a Reply


error: Content is protected !!