मुख्यमंत्री पोर्टल पर सुवरबाड़ा हटाने को दो साल से प्रार्थना कर रहे सैनुवा के ग्रामीण

June 1, 2021 12:58 PM0 commentsViews: 310
Share news

अजीत सिंह

सिद्धार्थनगर। मुख्यमंत्री पोर्टल आम जनता की सुलभता हेतु बनाया गया है जिस पर शिकायतों का निस्तारण मुस्तैदी से किया जाता है लेकिन सिद्धार्थनगर जनपद में शिकयत को निपटाया नही बल्कि शिकायतों को इधर से उधर हस्तांतरित कर पशुपालन विभाग अपने जिम्मेदारियों की इतिश्री कर लेता है। ऐसा ही एक मामला लोटन विकास खंड के ग्राम सैनुवा का आया है। यहां के ग्रामीण डीएन मणि त्रिपाठी ने एक सुकरबाड़ा को आबादी एरिया से हटाने के लिए दो साल से इस पोर्टल पर शिकायत कर रहे हैं मगर जिम्मेदार अधिकारी शिकायत को एक दूसरे पर थोप कर निपटा दे रहे हैं। 

सैनुवा वासी डीएन मणि त्रिपाठी ने बताया कि शिकायत सुअर बाड़ो को आबादी के अंदर से हटाए जाने विषयक है जो दो बर्षो से पशुपालन विभाग और एसडीएम सदर की उदासीनता से लंबित है। जब भी शिकायत होती है शिकायत पशुपालन विभाग को पोर्टल के माध्यम से जाती है और पशुपालन विभाग द्वारा एसडीएम सदर को स्थानांतरित कर शिकायत निस्तारित कर दी जाती है। ऐसे में इस पोर्टल की सार्थकता पर भी प्रश्न चिन्ह है।

बताते चलें कि स्वस्थ्य के दृष्टिकोण से भी सुअरों का आबादी के अंदर होना खतरे को दावत देने के समान है, क्योकी चिकित्सको की माने तो जापनीज इंसेफ्लाइटिस जैसी भयावह बीमारी के कीटाणु सुअरों में पाए जाते है और इसके फैलने के लिए बर्षा ऋतु अनुकूल होता है। अतीत में दृष्टि दौड़ाएंगे तो इस भयावह बीमारी से तमाम बच्चे काल के गाल में समा चुके है फिर भी प्रशाशन लापरवाही बरत रहा है शायद उसे बच्चो की मौत का इंतजार है तब शायद इनकी कुम्भकर्णी नीद खुलेगी।

Leave a Reply