बेसिक शिक्षा मंत्री के भाई ने असिस्टेंट प्रोफेसर पद से दिया इस्तीफा, भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे

May 26, 2021 7:56 pm0 commentsViews: 621
Share news

अपने त्यगपत्र में अरुण द्विवेदी ने लिखा है कि उनकी नियुक्ति को उनके बड़े भाई से जोड़ कर देखा जा रहा है। शोसल मीडिया पर जिस शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है। मैं (डॉ. अरुण द्विवेदी) नही चाहता की इन सब बातों को लेकर बड़े भाई की छवि पर कोई आंच आये। इसलिए इतने महत्वपूर्ण पद इस्तीफा दे रहा हूँ।

बात दें कि डॉ.अरुण पर आरोप है कि वे आर्थिक रूप से पिछड़े (EWS) का प्रमाणपत्र बनवा कर ये नौकरी हासिल की थी। जिले में आम चर्चा है कि एक संयुक्त परिवार में एक भाई मंत्री हो, आवेदक स्वंय पूर्व में लगभग एक से डेढ़ लाख के बीच प्रति महीने वेतन पाता रहा हो, जिनकी पत्नी भी लाख रूपये से अधिक प्रति माह वेतन पाती है। यदि वे आर्थिक रूप से कमज़ोर के आरक्षण की श्रेणी में आते हों तो यह बात आम आदमी को हज़म नही होती।

इस मामले को सुर्खियों में लाने वाले पूर्व आईपीएस अधिकारी और एक्टिविस्ट अमिताभ ठाकुर और उनकी पत्नी नूतन ठाकुर कहते है कि द्विवेदी परिवार करोड़ों का स्वामी है। उनके कुछ दस्तावेज़ मिल चुके हैं, शेष की छानबीन जारी है। नूतन ठाकुर ने तो तीन दस्तावेजों को अपनी फेसबुक वॉल पर जारी भी कर दिया है। इसके बाद से यहां राजनैतिक हलकों में तूफान मच गया है।

हमारे इटवा क्षेत्र के रिपोर्टर आरिफ मकसूद के अनुसार इस संबंध में डॉ. अरुण द्विवेदी का कहना है कि मंत्री जी के न रहने पर क्षेत्र के सारे मामले वही देखते है। मैं सिर्फ मंत्री का भाई हूँ। मेहनत से नौकरी पाई है। लेकिन भाई की छवि को खंडित करने के दुष्प्रयास में उनके लिए कुछ भी कर जाना मेरे जैसे भाई का नैतिक कर्तव्य बन जाता है।

(586)

Leave a Reply


error: Content is protected !!