पीस पार्टी अध्यक्ष डा. अयूब के कथित सेक्स स्कैंडल से जुड़ी लड़की की मौत, मुकदमें की आशंका

February 25, 2017 3:38 pm49 commentsViews: 1598
Share news

एस. दीक्षित

99999999

लखनऊ के अस्पताल में भर्ती लड़की और पीस अध्यक्ष डा. अयूब

लखनऊ। पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अयूब पर लगे यौन शोषण के मामले में एक बड़ा मोड़ आ गया है। उन पर आरोप लगाने वाली युवती की केजीएमयू के ट्रामा सेण्टर में इलाज के दौरान मौत हो गई है। युवती की हालत खराब होने पर उसके परिजन उसे केजीएमयू के ट्रामा सेण्टर लेकर ले गए थे, जहां उसका इलाज चल रहा था। इस मामले में डाक्टर अयूब के खिलाफ तहरीर दे दी गई है। जानकारों का कहना है देर सवेर पीस के अध्यक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो सकता है।

क्या है प्रकरण

इस प्रकरण में युवती की मां व अन्य  परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी को डॉक्टर बनाने का सपना दिखाकर अयूब उसके साथ चार साल तक यौन शोषण करते रहे, लेकिन समाज में लोक लाज के डर से उसने किसी को नहीं बताया। बेटी की हालत बिगड़ने पर घर वालों ने परीक्षण करवाया। इसमें लड़की की किडनी में पथरी होने की जानकारी मिली। परिजनों का आरोप है कि गलत दवाएं देने से उसे पिछले 8 माह से रक्तस्राव हो रहा था। पीड़िता के घरवालों ने डॉ. अय्यूब के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

कहां की थी लड़की

बता दें कि संतकबीरनगर जिले के एक गांव के निवासी रामू और मां सुनीता ट्रॉमा सेंटर में अपनी 22 वर्षीय बेटी का इलाज करवा रहे हैं। रामू ने आरोप लगाया कि एक जनसभा के दौरान उनकी मुलाकात अयूब से हुर्इ थी। उस समय मतलब साल 2012 में उनकी बेटी हाईस्कूल में पढ़ रही थी। बाद में वह पीस पार्टी के लिए काम भी करने लगी। बकौल परिजन अयूब लड़की को डाक्टरी की पढ़ाई कराने का वादा भी किये थे।

डा. अयूब ने क्या कहा

इस मामले में जब डॉ. अय्यूब से मीडिया ने बात की तो उन्होंने बताया की यह सारी साजिश समाजवादी पार्टी की है। उन्होंने बताया कि 2012 के विधान सभा चुनाव में भी ऐसी हवा उड़ी थी तब सुमित्रा नाम की लड़की ने ऐसे ही गंभीर आरोप लगाए थे। यह मामला कोर्ट में जाने के बाद जांच हुई तो फर्जी पाया गया। इसके सारे दस्तावेज भी उनके पास हैं।

उन्होंने बताया इस बार वह खलीलाबाद विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। यहां 27 फरवरी को पांचवे चरण का मतदान होना है इससे पहले फिर सपा ने साजिश करके यह काम किया है। उन्होंने कहा कि यह सारे आरोप निराधार एवं फर्जी हैं। जांच करवा ली जाये सब साफ हो जायेगा।

(17)

Leave a Reply


error: Content is protected !!