इटवा, शोहरतगढ़ के कछार इलाके में इंटर कालेज नहीं होने से घर बैठने को मजबूर हैं हजारों लड़कियां

May 12, 2016 2:26 pm0 commentsViews: 255
Share news

संजीव श्रीवास्तव

nizam

सिद्धार्थनगर। राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल के प्रदेश अध्यक्ष डा० निजामुद्दीन खान ने मुख्य मंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखकर जनपद सिद्धार्थ नगर के विकास खण्ड बढ़नी व विकासखण्ड शोहरतगढ़ के आंशिक क्षेत्र में बालिकाओं के लिए इण्टर कालेज स्तर तक के दो विद्द्यालय खोले जाने की मांग की है।

मुख्य मंत्री को भेजे पत्र में  आरओसी नेता डा. निजामुद्दीन ने कहा है की जनपद सिद्धार्थ नगर के विकास खण्ड बढ़नी व विकासखण्ड शोहरतगढ़ के आंशिक क्षेत्र  के 27 किलो मीटर की परिधि में बालिकाओं के लिए इण्टर कालेज स्तर तक एक भी विद्द्यालय नहीं है,  जिस से इस क्षेत्र की बेटियों को हाई स्कूल की शिक्षा के बाद घर बैठने के लिए मजबूर हो जाना पडता है।

जो संपन्न परिवार की लड़कियां हैं वह या तो जिला छोड़ देती हैं,  या फिर प्राइवेट फार्म भर कर इम्तेहान देती हैं , जिस से उनकी कागज़ी पढ़ाई तो हो जाती है,  लेकिन शिक्षा के सम्बन्ध में उन्हें व्याहारिक ज्ञान नहीं मिल पाता हैं। उन्होंने इस दुखद बताया है।

उन्हों ने यह भी कहा है की भारत नेपाल सीमा से सटा होने के कारण यह क्षेत्र अति संवेदनशील भी है इस लिए बेटियों को इटवा या शोरहरतगढ़ जाना कठिन एवं जोखिम पूर्ण हैं। ऐसे में सरकार का बेटी पढ़ाओ का नारा इस क्षेत्र में खोखला साबित हो रहा है।

ओलमा कौंसिल के प्रदेश अध्यक्ष ने मुख्य मंत्री से आग्रह किया है की वह तत्काल इस विषय को संज्ञान में लेते हुए बढ़नी से झकहिया व परसा से ढेबरुआ के बीच बालिकाओं के लिए इण्टर मीडिएट स्तर तक काम से दो कालेज खुलवाने की कार्यवाही सुनिश्चित करें उन्होंने इस विषय पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की लापरवाही पर चिंता जताई है।

(5)

Leave a Reply


error: Content is protected !!