फर्जी शिक्षक प्रकरण के मास्टर माइंड की खुद की डिग्री भी फर्जी निकली, 3 करोड़ की प्रापर्टी जब्त

April 11, 2023 1:38 PM0 commentsViews: 440
Share news

नजीर मलिक

फर्जी अभिलेखों के आधार पर कई अपात्रों को शिक्षक बनाने वाली गैंग् के मास्टर माइंड व मुख्य आरोपी शिक्षक राकेश कुमार सिंह स्वयं भी गलत अभिलेख के सहारे नौकरी कर रहा था। इसका खुलासा होने के बाद बीएसए ने उसे बर्खास्त कर दिया है। बीएसए देवेंद्र कुमार पांडेय ने उसे दूसरे व्यक्ति के फर्जी बीएड प्रशिक्षण डिग्री पर नौकरी करने के मामले में बर्खास्त किया है। साथ ही खंड शिक्षा अधिकारी बढ़नी को राकेश कुमार सिंह पर संबंधित थाने में केस दर्ज कराने का निर्देश दिया है। मामले की जांच कर रही एसटीएफ ने पहले ही राकेश सिंह को जिले में शिक्षक भर्ती में फर्जीवाड़े का मुख्य आरोपी बताते हुए जेल भेजा था।

जिले में चार वर्ष पूर्व खुले शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़े मामले की जांच कर रही एसटीएफ 27 फरवरी 2023 को बीएसए को पत्र भेजकर बताया कि राकेश कुमार सिंह ईश्वर चंद्र शुक्ल पुत्र सर्वदेव शुक्ल के बीएड डिग्री के आधार नौकरी कर रहा है। देवरिया जिले के कुइचवर गांव निवासी राकेश कुमार सिंह ने वर्ष 2009 में जिले में हुए भर्ती में शिक्षक की नौकरी हासिल की थी और इटवा ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय कठेला ग्रांट में सहायक अध्यापक पद पर तैनात हुआ था। वर्तमान में वह बढ़नी ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय खड़कुइया नानकार के प्रधानाध्यापक पद से निलंबित चल रहा है।

वर्ष 2019 से शुरू हुई जांच में अब तक जिले में भर्ती हुए सौ से अधिक शिक्षकों के अभिलेख फर्जी पाए गए, जिनके विरूद्ध केस दर्जकर छानबीन चल रही है। जांच कर रही एसटीएफ ने मामले का खुलासा करते हुए राकेश कुमार सिंह को ही शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में फर्जीवाड़े का मुख्य आरोपी बताया था। तब उस पर केस दर्ज करने के साथ ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। विभाग ने फर्जी पाये गये शिक्षकों को तो बर्खास्त कर दिया था, लेकिन मुख्य आरोपी राकेश कुमार सिंह के विरूद्ध अब बखास्तगी की कार्रवाई हो सकी है। बीएसए देवेंद्र कुमार पांडेय का कहना है कि शिक्षक राकेश कुमार सिंह के अभिलेख फर्जी मिलने पर बर्खास्तगी की कार्रवाई हुई है।

तीन करोड़ की अवैध संपत्ति हो चुकी है जब्त

डीएम संजीव रंजन के निर्देश पर फर्जीवाड़े के मुख्य आरोपी शिक्षक राकेश कुमार सिंह की 2.99 करोड़ की संपत्ति पुलिस एवं प्रशासन ने 16 सिंतबर 2022 को जब्त कर ली थी। फर्जी दस्तावेज के सहारे नौकरी दिलाने के आरोपी शिक्षक रहे राकेश सिंह पर जिले में धोखाधड़ी गैंगस्टर सहित विभिन्न धाराओं के 12 से अधिक मुकदमे पहले से ही दर्ज है। वह जेल गया था. जेल से बाहर आया था, इसके बाद फिर गैंगस्टर एक्ट के तहत जेल जा चुका है। जब्त संपत्ति में देवरिया जिले के भाटपार रानी में स्थित दो करोड़ 33 लाख 52 हजार रुपए लागत की जेडीएस इंटरनेशनल स्कूल जैतपुरा, 20 लाख कीमत का एक चार पहिया वाहन, माता के नाम से गोरखपुर में स्थित 44 लाख रुपये कीमत का मकान शामिल है।

 

Leave a Reply