नदी में कूदे हिंदू युवक को इफ्तार कर रहे लोगों ने बचा कर कायम की मिसाल

June 18, 2017 11:20 AM0 commentsViews: 706
Share news

मोहम्मद फैसल फरीदी

4567

बलरामपुर। शाम के समय एक नौजवान छोटी नदी सरीखे नाले में कूद गया। रोजा इफ्तार का वक्त था। लोगों ने इफ्तारी छोड कर उसे बचाया। पुलिस की भूमिका बेहद खराब रही, लेकिन रोजेदारों इंसानियत का फर्ज अदा कर समाज में भाईचारे की मिसाल पेश की। घटना की समूचे शहर में चर्चा है।

प्राप्त सूचना के अनुसार 17 जून को शाम 6:50 बजे के क़रीब एक युवक थाना कोतवाली नगर के अंध्यारी बाग़ क़ब्रस्तान के क़रीब बने सुआओं पुल से गहरे पानी में कूद गया।रोजा इफ्तार के वक्त युवक को पुल से कूदते मोहम्मद नफ़ीस नाम के लड़के नें देख लिया और शोर मचाना शुरू कर दिया। शोर सुन कर इफ्तारी के लिए बैठे सभी रोज़ादार पुल की तरफ़ भागे और पानी में डूब रहे नवजवान की जान बचाने की क़वायद करने लगे।

यही नहीं मोहल्ले के कई नवजवान टार्च की रौशनी में किसी तरह पानी में उतरे और काफी देर की मशक्कत के बाद नवजवान को पानी से बाहर निकाला।तब तक उसके जिस्म पर बड़ी संख्या में जोंक चिपक गई थी, जो युवक के जिस्म में घुस रही थी। जिसकी वजह से नवजवान घायल भी हो गया था।

युवक से बात करने पर वह कभी अपना नाम राजकुमार बताता तो कभी अभिषेक बताता।उसके हाथ में लाल रंग का धागा बंधा था और एक छोटा सी माला भी हाथ में लिपटी थी। जिससे यह प्रतीत हो रहा था कि यह हिन्दू धर्म का मानने वाला युवक है। वह काफ़ी नशे में भी था और किसी भी सवाल का जवाब सही से नहीं दे पा रहा था। किसी तरह रोज़ेदारों नें युवक के जिस्म से जोंक छुड़ाई और उसके जिस्म पर लगी गन्दगी को भी साफ़ किया।

सूत्रों की माने तो युवक के पानी में कूदने की सूचना कोतवाली नगर को दी गई मगर घण्टा बीत जाने के बाद कोई पुलिस कर्मी नहीं पहुँचा जिसके बाद घटना की सूचना संवाददाता नें पुलिस अधीक्षक को दी तब जा कर मौके पर पुलिस पहुंची।पुलिस की उदासीनता का आलम यह था कि वह नशे में धुत नवजवान को छूने से भी कतरा रही थी। तब नवजवानों नें ही युवक को उठा कर पुलिस के साथ कोतवाली नगर पहुँचाया।युवक की भाषा बता रही थी कि वह किसी दूसरे प्रदेश का है और नशे में भटक कर आ गया था।

 

 

 

Leave a Reply