भीषण आग से बारह लाख का सामान जल कर खाक, डेढ़ घंटे बाद पहुँचा अग्नि शमन दल

January 13, 2017 11:32 am0 commentsViews: 239
Share news

संवाददाता 

  dd

गोंडा। जिले के मसकनवा कस्बे के एक रेडीमेड की दुकान पर शाट सर्किट से आग लगने से लाखों रुपये के रेडीमेड ऊलेन,चप्पल,जूते के सामान धू धू कर जल कर राख हो गये।देखते ही देखते सब कुछ समाप्त हो गया।घटना सोमवार की रात आठ बजे के करीब की है। बताया जाता है कि सूचना मिलने के डेढ घंटे बाद दमकल की गाड़ी पहुंची, वरना नुकान कम हो सकता था।

कस्बे के शिव पूजन गुप्ता पुत्र राम मूरत गुप्ता के रेडीमेड की दुकान बंद करके बाजार चला गया। तभी अचानक शाट सर्किट होने से पूरी दुकान आग के हवाले हो गयी। दुकान से धुआं निकलते देख मोहल्ले वालों ने दुकान मालिक को सूचना दी। उसने दुकान का शटर खोला, लोग कुछ समझ पाते तब तक बहुत देर हो चुकी थी।पूरी दूकान आग के आगोश में चुकी थी।मकान में लगे टाइल्स वगैरह ज्यादा गर्म हो जाने से फूटफूट कर सड़क के चारो तरफ फैलने लगे।जिसके नाते और भी अफरातफरी मच गयी।लोग अपने आपको बचाने के लिए अपनेअपने घरों को छोड़ कर इधरउधर भागने लगे।जिससे चारों ओर अफरा तफरी का माहौल हो बना रहा।

 लाखों का नुकसान,

अचानक आग लगने से दुकान में रखे रेडीमेड के पैंट सूट, फ्राक बाबा सूट, शर्ट, फैन्सी सूट, गाउन, स्वेटर शाल, गमक्षा, कारडिगन, जूता, चप्पल, घरेलू सामान, बैट्री, इनवर्टर, काउंटर, 60 हजार नगदी सहित लाखों का सामान जल कर राख हो गया।मौके पर मुवायना करने आये हल्का लेखपाल शिव कुमार पाण्डेय ने बताया कि करीब बारह लाख रूपये की क्षति का आकलन किया गया है।जिसकी रिपोर्ट तहसीलदार मनकापुर को दे दी गयी है।पीड़ित ने बताया कि के वाई सी के द्वारा लोन के दो लाख के सामान भी लगे थे दुकान पर।

पुलिस सहित कस्बे वासियों ने दिखाया साहस

 कस्बा वासियों ने अदम्य साहस दिखाते हुए घंटों कडी मशक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया ।लेकिन अपने इस साहसिक प्रयास से आग को अगल बगल फैलने नहीं दिया।इनके साथ स्थानीय पुलिस भी मौके पर दलबल के साथ पहुँच कर आग बुझाने में लग गए।

बारह किलोमीटर का सफ़र डेढ़ घंटे में तय किया फायर बिग्रेड की गाड़ी

आग लगने के डेढ़ घंटे के बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंचने के बाद आग पर काबू पाया जा सका एस पवन कुमार सिंह चौकी प्रभारी नितेश सिंह ने मौके पर पहुंच कर सहयोग किया। फायर ब्रिगेड के काफी देर में आने से लोंगों में काफी आक्रोश व्याप्त था।

(1)

Leave a Reply


error: Content is protected !!