exclusive–सिसवा गांव में सदियों पुराना अजूबा बरगद देता है आम, गूलर समेत पांच फल, मौके पर खूबसूरत वाटिका भी

November 24, 2015 7:10 PM0 commentsViews: 1013
Share news

नजीर मलिक/ हमीद खान

peepal

इटवा तहसील का सिसवा बुजूर्ग गांव में सदियों पुराना पीपल का पेड़ एक अजूबा है। इस पेड़ में कोई कलम नहीं की गई है। बावजूद इसके, पेड़ मौसम के हिसाब से पांच अलग अलग किस्म का फल देता है। यहां एक सुंदर वाटिका और प्राचीन मंदिर भी है। हैरत है कि यह जगह अभी तक पर्यटन विभाग और प्रशासन की नजरों से अछूता है।

सैकड़ों साल पुराने पीपल के इस पेड़ में न तो कोई कलम जोड़ी गई है और न ही इसमें सटा कर कोई और पेड़ लगाया गया है। पेड़ की डालियों में ही सारा रहस्य छिपा है। आम के मौसम में इसकी कुछ डालियों में अचानक आम फलने लगते हैं, तो उसके बाद के सीजन में गूलर के मीठे फल लटकने लगते हैं।

इसके अलावा समय पर पीपल का अपना फल तो होता ही है। वक्त पर इसमें बरगद और पाकड़ के फल भी आते हैं। ऐसा कैसे होता है, इस बारे में कृषि वैज्ञानिक डा. अतहर बताते है कि अक्सर एक पेड़ में उससे मिलती जुलती प्रजाति का फल निकलना तो संभव है, लेकिन पांच विभिन्न फल निकलने की बात शोध का विषय है। यह एक तरह से चमत्कार ही है।

सिसवा ही नहीं आस-पास के ग्रामीण इसे भगवान की कृपा मान रहे हैं। इसलिए इसकी पूर्जा अर्चना रोज होती है। लोग इसे विज्ञान पर भगवान की श्रेष्ठता की संज्ञा देते हैं।इटवा तहसील मुख्यालय से तकरीबन 10 किमी उत्तर पूरब सिसवा गांव के बाहर स्वर्गीय बाबा परमहंस दास की कुटी पर यह विशाल वृक्ष न जाने कितने सालों से खड़ा है। इस कुटी की देखरेख उनके वंशज कर रहे हैं।

कुटी निकट एक पोखरा भी है। उसके आस पास तमाम औषधीय पौधे भी रोप दिये गये है। अब यह स्थान पंचवाटिका के नाम से जाना जाता है। श्रद्धालु वहां अक्सर पूजा अर्चना करते हैं। यही नहीं अब पीपल का वह वृक्ष उनके लिए श्रद्धा का विषय बन चुका है।

बाबा परमहंस के वंशज ब्रहमदेव षुक्ल का कहना है कि यह प्रकृति का चमत्कार है। उनके पूर्वज के मुताबिक डेढ सौ साल से वह इस पेड को देख रहे है। आगे कितना पुराना होगा,  यह उन्हे भी पता नहीं। यह स्थान अब श्रद्धास्थल के रूप में स्थापित है, लेकिन प्रशासन इस पर घ्यान नहीं दे रहा है। यह दुखद है।

दूसरी तरफ सिसवा बुजर्ग गांव के प्रधान बुद्धिसागर का कहना है कि इस स्थल के विकास के लिए वन विभाग को एक प्रस्ताव बना कर भेजा गया है, लेकिन वहां से कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। प्रशासन का कहना है कि वह शीघ्र ही इस मामले को देखेगा।

Leave a Reply