मुखबिर/हिस्ट्रीशीटर की पिटाई के बाद मौत, चुनाव में लगे दीवान की हार्ट अटैक से गई जान

December 1, 2015 9:11 PM0 commentsViews: 241
Share news

नजीर मलिक

hatya

सिद्धार्थनगरः पूर्व में पुलिस के लिए मुखबिरी करने वाले और सिद्धार्थनगर थाने के हिस्ट्रीशीटर गोरख भटृट की मंगलवार को पिटाई से मौत हो गई। मामला हेडक्वार्टर का है। इसी के साथ चुनाव डयूटी में लगे पुलिस के दीवान की हार्ट अटैक से मरने की खबर है।

खबर है कि गोरख भटृट ने आज मंगलवार को दोपहर तीन बजे जिला अस्पताल में दम तोड़ा। गोरख भट पर 23 नवम्बर की शाम को हमला हुआ था। कई लोगों ने उस पर लाठियों से हमला किया था और उसे मृत जान कर भाग निकले थे। महनगा गांव जिला हेडक्वार्टर से सटा है। 60 साल का गोरख वहीं का निवासी था।

खबर के मुताबिक गोरख पर जानलेवा हमले के बाद भी उसका मुकदमा नहीं लिखा गया। जिसकी वजह से उसे किसी सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए दाखिला नहीं मिला। जिलाधिकारी के हस्तक्षेप के बाद आज उसे जिला अस्पताल में दाखिल किया गया और तीन बजे उसने दम तोड़ दिया।

गेरख का मुकदमा अब तक नहीं लिखा गया है। एसओ शिवाकांत मिश्रा के मुताबिक उन्होंने परिजनों से तहरीर मांगी है, मिलते ही मुकदमा लिखा जायेगा।

कौन था गोरख
गोरख भटृट शहर का चर्चित नाम था। वह जमीनी विवाद में अक्सर रहता था। उसे लोग भूमाफिया कहते थे। युवा अवस्था में वह पुलिस की मुखबिरी करता था। बाद में पुलिस ने उसे सदर थाने के हिस्ट्रीशीटर के रूप में सूचीबद्ध किया।

गोरख के शहर और आस पास के गांवों में तमाम दुश्मन थे। 23 नवम्बर को 7 बजे शाम ऐसे ही किसी दुश्मन ने गोलबंद होकर उस पर लाठी से हमला कर पीट पीट कर मरणासन्न कर दिया था।

हेड कांस्टेबिल की मौत

एक अन्य समाचार के अनुसार इटवा ब्लाक के हीर खास गांव में मतदान में चुनाव डयूटी करने गये हेड कांस्टेबिल राधेश्याम की हार्ट अटैक से मौत हो गई। वह 55 साल के थे। उनकी मौत आज सुबह हुई।

राधेश्याम वर्तमान में थाना त्रिलोकपुर में तैनात थे। वह चुनाव डयूटी में हीर खास गये थे। मंगलवार की सुबह अचानक उन्हें दिल का दौरा पड़ा और जब तक लोग इलाज के लिए उन्हें कहीं ले जा पाते, उनकी सांसें थम गईं। इस घटना से पुलिस विभाग में शोक का माहौल है।

Leave a Reply