पथरा में दो बालकों के साथ हुई दरिंदगी में ठोस सबूतों के साथ चार्जशीट दाखिल, मिलेगी सजा

September 8, 2023 12:20 PM0 commentsViews: 763
Share news

नजीर मलिक

सिद्धार्थनगर। पथरा थाना क्षेत्र के ,एक मंदबुद्धि के किशोर और एक अन्य बालक से दरिंदगी करने के मामले में जेल में बंद आठ आरोपियों के खिलाफ जांच में काफी ठोस सबूत मिल चुके हैं।  इस मामले में पुलिस ने 15 दिन के अंदर विवेचना पूरी करके चार्जशीट दाखिल कर दिया है। पुलिस इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट ले जाएगी ताकि उन्हें जल्द से जल्द सजा मिल सके। इस केस क आठ आरोपियों में चार नाबालिग  है। विधि विशेषज्ञों का कहना है कि अगर जांच में नाबालिग की उम्र 16 वर्ष पूरी हो गई है तो जघन्य अपराध होने के कारण उसी कोर्ट में उनकी भी सुनवाई चलेगी और उसी हिसाब से सजा भी मिलेगी। भले ही बालिग होने तक उन्हें बाल सुधारगृह में रखा जाए। इस घटना से क्षेत्र में आक्रोश फैल गया था।

क्या हुई थी दरिंदगी?

पथरा थाना क्षेत्र एक गांव के दो अलग-अलग टोले के रहने वाले 10 वर्षीय बालक और 15 वर्षीय किशोर मानसिक रूप से कमजोर थे। गांव के चौराहे पर स्थिति एक मीट शॉप की दुकान चलाने वालों ने उनके साथ हैवानियत की। पेशाब पिलाया, नाजुक अंग में हरी मिर्ची डाल दी और पेट्रोल का इंजेक्शन लगाया था। इस मामले में आठ आरोपी सामने आए थे। जिनके खिलाफ कुकर्म, हत्या का प्रयास और पाक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था। इसमें चार बालिग और चार नाबालिग शामिल थे। नाबालिग बाल सुधारगृह बस्ती में हैं। जबकि बालिग आरोपी जेल में बंद हैं। पुलिस इस मामले में विवेचना करके भीतर चार्जशीट को न्यायालय में दाखिल कर दिया है। आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले। इसके लिए मामले को फास्ट टै्रक कोर्ट में लेकर जाएगी। जिससे जल्दी से जल्दी तारीख पड़े और बयान दर्ज करवाकर दोषियों को सजा दिलाया जा सके।

उल्लेखनीय हैकि इस लोमहर्षक घटना की जानकारी भय वश दोनों बालकों ने परिवार को कोई जानकारी नहीं दी थी। लेकिन जब घटना का वीडियो वायरल हुआ और लोगों ने उन्हें दिखाया तो उनके होश उड़ गए। क्योंकि वीडियो में देखा गया कि पहले बच्चों को गाली देकर आरोपी पेशाब पिलाते हैं, फिर पेट्रोल का इंजेक्शन लगाते हैं और जब इससे उनका जी नहीं भरता है तो पेट्रोल से भरा हुआ इंजेक्शन लगा देते हैं। यह देखने के बाद हर कोई आक्रोशित हो जा रहा था। इस कृत्य पर कड़ी से कड़ी सजा देने की लोग मांग कर रहे थे।  इस कांड में पुलिस के हाथ सबसे बड़ी कड़ी वायरल वीडियो है।

थानाध्यक्ष ने कहा

इस बारें में थानाध्यक्ष पथरा हरिओम कुशवाहा ने बताया कि मानसिक रूप से कमजोर बच्चों के साथ से हुई घटना के मामले में विवेचना तत्काली थानाध्यक्ष ने घटना के 15 दिन के भीतर ही पूरी करके चार्ज शीट न्यायालय में प्रस्तुत कर दिया है। मामले की सुनवाई फास्ट टै्क कोर्ट चलेगी, जिससे आरपियों को जल्द से जल्द सजा मिल सके। इस मामले में पुलिस जम कर पैरवी करने का कार्य करेगी।

 

 

Leave a Reply