इटवा के एसडीएम और तहसीलदार हमेशा जनता के लिये करते है काम, सैकड़ो गरीब हो चुके लाभान्वित

January 23, 2019 10:40 am2 commentsViews: 277
Share news

मेराज़ मुस्तफा

इटवा, सिद्धार्थनगर। एक प्रशासनिक अधिकारी के उत्कृष्ट सोच ने जनपद के इटवा तहसील क्षेत्र को अतिविशिष्ट बना दिया है। इस समय जिले के हर अदमी का ध्यान जिले की इटवा तहसील के प्रशासनिक अमले की तरफ आकर्षित हो रहा।

उप जिलाधिकारी इटवा त्रिभुवन कुमार एवं उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहे तहसीलदार राजेश अग्रवाल के मध्य स्थापित समन्वय ने तहसील क्षेत्रवासियों का दिल जीत लिया चाहे वह अवैध कार्यों के खिलाफ की गई कार्यवाई हो अथवा बिस्कोहर कस्बे के पश्चिमी टोला स्थित गणिकाओं को देह व्यापार के दलदल से मुक्त करवाना।

त्रिभुवन कुमार व राजेश अग्रवाल की सोच का ही परिणाम है कि जहां अधिकांश लोग प्रशासनिक अधिकारियों के पास जाने की हिम्मत नही करते थे आज वह इन दोनों अधिकारियों को आशीर्वाद देते नही थक रहे।

राशन कार्ड से वंचित लोगों के लिए सोमवार से तहसील परिसर में विशेष कैम्प का आयोजन कर उप जिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार ने निःशुल्क नेत्र परीक्षण भी करवाकर आँखों को रोशनी देने की जो पहल की उसकी कोई मिसाल नही।

मंगलवार को उप जिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार की यह मुहिम तहसीलदार राजेश अग्रवाल के नेतृत्व में गतिमान होते हुए राशन कार्ड बनवाने वालों की संख्या एक हजार  पार कर गई व दो सौ नौ लोगों की नेत्र जांच की गई जिनको गणतंत्र दिवस के अवसर पर चश्मा प्रदान किया जाएगा।

खाद्यान्न वितरण में नही चल सकेगी घपलेबाजी 

मंगलवार को उप जिलाधिकारी त्रिभुवन कुमार ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत गरीबों के राशन वितरण में हो रही घपलेबाजी की शिकायत मिलने पर उप जिलाधिकारी इटवा त्रिभुवन कुमार ने खाद्यान्न गोदाम का निरीक्षण करते हुए वहां रखे गेंहू व चावल के बोरों की गिनती करवाते हुए विपणन अधिकारी इटवा को निर्देशित किया कि प्रत्येक माह राशन वितरण करने के बाद ही कोटेदारों को अगले माह का खाद्यान्न उठान की अनुमति दी जाएगी।

सभी कोटेदार इसके लिए पॉइंट ऑफ सेल मशीन (पीओएस) साथ लेकर आएंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उक्त मशीन का प्रयोग किस तरह से किया जा रहा है।

(105)

Leave a Reply


error: Content is protected !!